Mahashivratri 2024: महादेव से बोहलेनाथ तक, भगवान शिव के इन नामों के अर्थ हैं बेहद खास

0
290
Mahashivratri 2024
Mahashivratri 2024

Mahashivratri 2024: फाल्गुन माह में मनाई जाने वाली महाशिवरात्रि का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। इस वर्ष यह पर्व 8 मार्च 2024 को मनाया जाएगा। माना जाता है कि इस दिन भगवान शिव और देवी पार्वती का विवाह हुआ था और शिव वैराग्य से वैवाहिक जीवन में चले गए थे। इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की विधि-विधान से पूजा की जाती है।

Mahashivratri 2024: HIGHLIGHTS

  • फाल्गुन माह में महाशिवरात्रि का त्यौहार मनाया जाता है।
  • भगवान शिव को महादेव और बुलनाथ जैसे कई नामों से जाना जाता है।
  • भगवान शिव के सभी नामों का एक विशेष अर्थ है।

Table of Contents

Mahashivratri 2024: भगवान शिव नाम का अर्थ

Mahashivratri 2024

संताना धर्म में, भगवान शिव को दुनिया के विनाशक के रूप में जाना जाता है। वह त्रिमूर्ति के तीन महान देवताओं में से एक हैं: ब्रह्मा, विष्णु और महेश। भगवान शिव को महादेव, शिव शंकर और बुलनाथ जैसे कई नामों से पुकारा जाता है। महाशिवरात्रि के इस विशेष अवसर पर, कृपया हमारे साथ इन नामों का अर्थ साझा करें और भगवान शिव को यह नाम कैसे मिला।

Mahashivratri 2024: उन्हें नीलकंठ क्यों कहा जाता है?

पौराणिक कथा के अनुसार, जब देवताओं और राक्षसों ने अमृत प्राप्त करने के लिए समुद्र मंथन किया था, तब जहर भी इसी प्रक्रिया से उत्पन्न हुआ था। यह विष इतना भयानक था कि इस विष की अग्नि से दसों दिशाएं जलने लगीं। तब भगवान शिव ने संसार को बचाने के लिए इस विष को पी लिया। इस विष के प्रभाव से भगवान शिव का कंठ नीला पड़ गया। इसीलिए भगवान शिव को नीलकंठ कहा जाता है।

Mahashivratri 2024: महामृत्युंजय का अर्थ

भगवान शिव को महामृत्युंजय भी कहा जाता है। संस्कृत में, महामृत्युंजय का अर्थ है वह जो मृत्यु पर विजय प्राप्त करता है या जो मृत्यु से अछूता रहता है। महामृत्युंजय मंत्र का जाप भगवान शिव की स्तुति में किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस मंत्र का जाप करने से अकाल मृत्यु से बचा जा सकता है।

Mahashivratri 2024: क्या संकेत देते है अर्धनारीश्वर स्वरूप

अर्धनारीश्वर रूप भगवान शिव का वह रूप है जिसमें भगवान शिव आधा स्त्री और आधा पुरुष का शरीर धारण करते हैं। भगवान शिव के इस अर्धनारीश्वर रूप के आधे भाग में भगवान शिव पुरुष रूप में हैं और दूसरे आधे में शक्ति स्त्री रूप में हैं। इस रूप में भगवान शिव प्रत्येक प्राणी को यह दर्शाते हैं कि स्त्री और पुरुष एक दूसरे को पूर्ण करते हैं और दोनों एक दूसरे के बिना अधूरे हैं।

Mahashivratri 2024

Mahashivratri 2024: इसीलिए इसे भोलेनाथ कहा जाता है।

जहां भगवान शिव के रौद्र रूप के सामने तीनों लोक कांप उठते हैं। हालाँकि, उनका एक रूप भी है जिसमें उनका नाम बोलेनाथ है। यहां भोलेनाथ का अर्थ कोमल हृदय और दयालु हृदय से है। भगवान शिव उसी व्यक्ति से प्रसन्न होते हैं जो सच्चे मन से शिवलिंग पर जलाभिषेक करता है। इसी कारण से भगवान शिव को बोहलेनाथ की उपाधि भी दी गई।

Mahashivratri 2024: देवो के देव – महादेव

हिन्दू शास्त्रों में शिव जी को महादेव नाम की उपाधि दी गई है। अन्य किसी देवता को इस नाम की संज्ञा नहीं दी। क्योंकि यह माना जाता है कि इस सृष्टि की संरचना से पहले भी शिव थे और इस सृष्टि के समापन के बाद भी शिव ही रहेंगे। यहां महादेव का अर्थ है – महान ईश्वरीय शक्ति या देवों का देव। इस संज्ञा के अधिकारी केवल शिव ही हो सकते हैं।

पल पल की खबर के लिए IBN24 NEWS NETWORK का YOUTUBE चैनल आज ही सब्सक्राइब करें।चैनल लिंक : https://youtube.com/@IBN24NewsNetwork?si=ofbILODmUt20-zC3

यह भी पढ़ें – What is Dry Ice and its Reaction: क्या होती है Dry Ice जिसे खाकर हॉस्पिटल पहुंच गए लोग! जानें पूरा मामला और क्यों है ये नुकसानदेह

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here