HomeViral Newsचंडीगढ़ में दूसरे राज्यों के वाहनों पर लगेगा कंजेशन टैक्स, जानिए क्यों...

चंडीगढ़ में दूसरे राज्यों के वाहनों पर लगेगा कंजेशन टैक्स, जानिए क्यों लगाया जा रहा, रोजाना 2 लाख गाड़ियां आती हैं शहर

चंडीगढ़। चंडीगढ़ में प्रवेश करने वाले बाहरी राज्यों के वाहनों की मुश्किल बढ़ने वाली हैं। इन वाहनों को अगले कुछ दिनों बाद सीधा प्रवेश नहीं मिलेगा। बल्कि हिमाचल प्रदेश और दिल्ली की तर्ज पर पहले कंजेशन टैक्स की पर्ची कटवानी होगी उसके बाद चंडीगढ़ में प्रवेश मिल जाएगा। चंडीगढ़ में रोजाना दो लाख से अधिक वाहन दूसरे राज्यों के प्रवेश करते हैं। यह सभी वह वाहन होते हैं जो चंडीगढ़ की बजाए दूसरे राज्यों में पंजीकृत होते हैं।

चंडीगढ़ पंजाब और हरियाणा की राजधानी है। इसलिए यहां सबसे ज्यादा वाहन भी इन दोनों राज्यों से ही आते हैं। इनमें भी पंजाब से सबसे अधिक वाहन रोजाना आते जाते हैं। इसके बाद हरियाणा के वाहन चंडीगढ़ आते हैं। इसके बाद हिमाचल प्रदेश के वाहनों की संख्या आती है। इसके अलावा दिल्ली, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के वाहनों की संख्या भी कम नहीं है। इन सभी वाहनों को चंडीगढ़ में प्रवेश करने के लिए कंजेशन टैक्स का भुगतान करना होगा।

भीड़ रोकने के लिए नया टैक्स

चंडीगढ़ प्रशासन ने कंजेशन टैक्स लगाने का प्लान तैयार कर लिया है। पहली बार इस तरह का टैक्स लगाने की तैयारी हो रही है। इस टैक्स के तहत सभी बाहरी वाहनों से यह टैक्स लिया जाएगा। इन्हें प्रवेश इस टैक्स की अदायगी के बाद ही मिलेगा। इसका पूरा प्लान अभी तैयार किया जा रहा है।

पब्लिक ट्रांसपोर्ट को मिलेगा बढ़ावा

अभी चंडीगढ़ में निजी वाहन बड़ी संख्या में बढ़ रहे हैं। एक गाड़ी को एक व्यक्ति ऑक्यूपाई कर चल रहा है। पांच से नौ सीटर गाड़ी में भी एक ही व्यक्ति चल रहा है। इन वाहनों को सड़कों से हटाने और पब्लिक ट्रांसपोर्ट को बढ़ावा देने के लिए यह कंजेशन टैक्स लगाया जा रहा है। इसमें प्रशासन चाहता है कि ज्यादा से ज्यादा लोग सीटीयू की बसों में सफर करें। निजी वाहनों को छोड़ें।

एडवाइजरी काउंसिल की मीटिंग में लगेगी अंतिम मुहर

प्रशासक की सलाहकार समिति की स्टैंडिंग कमेटी ट्रांसपोर्ट की मीटिंग में सांसद किरण खेर की अध्यक्षता में हुई इस मीटिंग में कंजेशन टैक्स लगाने पर बात हुई। स्टेट ट्रांसपोर्ट अथोरिटी सीएनजी एलपीजी आटो का पंजीकरण पूरी तरह से बंद कर चुकी है। ई-रिक्शा और ई-आटो को बढ़ावा देने के लिए केवल इन्हीं का पंजीकरण हो रहा है। वाहनों की पासिंग प्रक्रिया को मानव हस्तक्षेप रहित बनाने के लिए आटोमेटेड टेस्टिंग व्हीकल सेंटर स्थापित किया जा रहा है।

जुलाई तक 40 इलेक्ट्रिक बस आएंगी

पब्लिक फ्रेंडली ट्रांसपोर्ट सिस्टम को बढ़ावा देने के लिए नवंबर 2021 से 40 इलेक्ट्रिक बसें शहर में चल रही हैं। 40 और बस चलाने के लिए वोल्वो आयशर से प्रशासन ने करीब 45 रुपये प्रति किलोमीटर खर्च पर एग्रीमेंट साइन कर रखा है। ट्रांसपोर्ट अधिकारियों ने बताया कि यह 40 बस जुलाई तक आ जाएंगी।

Html code here! Replace this with any non empty raw html code and that's it.
RELATED ARTICLES

Most Popular