Haryana Farmers Protest: किसानों का ट्रैक्टरों के साथ दिल्ली पर मार्च: चिल्ला–गाजीपुर बॉर्डर पर प्रति किलोमीटर एक घंटा जाम

0
28
Haryana Farmers Protest
Haryana Farmers Protest

Haryana Farmers Protest: किसान मजदूर मोर्चा के नेता सरवन सिंह पंढेर ने कहा, ”सरकार किसानों की मांगों को गंभीरता से नहीं ले रही है! वह सिर्फ टाइम पास करना चाहती है! हम सरकार के प्रस्ताव पर विचार करेंगे, लेकिन आंदोलन पर डटे रहेंगे.इस बीच, केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा कि हर चीज का समाधान बातचीत से होना चाहि!. ऐसी समस्याएं हैं जिन्हें हल करने के लिए कमेटी बनाने की आवश्यकता है।इस आंदोलन के चलते दिल्ली, पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ के बॉर्डर सील रहेंगी! हरियाणा के 7 और राजस्थान के 3 जिलों में इंटरनेट बंद है. 15 जिलों में धारा 144 लागू कर दी गई. हरियाणा और दिल्ली में सिंघु टिकरी बॉर्डर के साथ-साथ ग़ाज़ीपुर में यूपी बॉर्डर भी बंद कर दिया गया। दिल्ली में भी सख्त बैरिकेडिंग है! यहां भी धारा 144 एक महीने की अवधि के लिए लागूकर दी गई है। लोगों के एकत्र होने और ट्रैक्टरों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई।

Haryana Farmers Protest: सड़क पर बिछाई कीलें:

किसानों के मार्च को देखते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं.!एक तरफ बैरिकेड लगा दिए गए और सड़क पर कीलें बिछाई गई गईं।

Haryana Farmers Protest

Haryana Farmers Protest: अमृतसर-दिल्ली फ्लाइट्स के रेट बढ़े 3 गुना

अमृतसर से दिल्ली तक फ्लाइट्स की कीमतें तीन गुना हो गई हैं। आज एयर इंडिया की फ्लाइट नंबर के टिकट… दोपहर 1:00 बजे अमृतसर से प्रस्थान करने वाली AI492 17,000 रुपये में उपलब्ध है। रात 11 बजे उड़ान भरने वाली फ्लाइट एआई 480 के टिकट की कीमत करीब 35,000 रुपये तक पहुंच गई है. विस्तारा की उड़ान संख्या यूके 692, जो दोपहर 3:45 बजे प्रस्थान करती है, उसकी कीमत भी लगभग 17,000 रुपये है।

Haryana Farmers Protest: दिल्ली और नोएडा के बीच चिल्ला बॉर्डर पर जाम

दिल्ली को उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद और नोएडा से जोड़ने वाले ग़ाज़ीपुर और चिल्ला की सीमा से लगे नेशनल हाईवे पर वाहनों की लंबी कतारें लगी हुई हैं! एक Km दूरी तय करने में करीब एक घंटा लगेगा! 20 मिनट से ट्रैफिक एक ही जगह रुका हुआ है।

ट्रैक्टरों पर लगे दीप सिद्धू के पोस्टर: दिल्ली की ओर कूच कर रहे किसानों के ट्रैक्टरों पर दीप सिद्धू के पोस्टर चिपकाए गए! दीप सिद्धू पिछले आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाता है! लाल किला हिंसा में दीप सिद्धू भी शामिल था! हालाँकि, दीप सिद्धू की कुछ समय पहले एक दुर्घटना में मृत्यु हो गई।

2 साल पहले 378 दिन चला था किसान आंदोलन: इससे पहले 17 सितंबर, 2020 को किसानों ने तीन कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन शुरू किया था। यह आन्दोलन लगभग 378 दिनों तक चला। दावा किया गया कि इस आंदोलन में 700 किसानों की मौत हो गई! प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीनों गुरु नानक देव प्रकाश पर्व पर कानूनों को रद्द करने की घोषणा की! इसके बाद किसानों ने 11 दिसंबर को आंदोलन खत्म करने का ऐलान किया था।

किसान नेताओं के सोशल मीडिया अकाउंट सस्पेंड: भारत ने किसान नेताओं (X) के सोशल मीडिया अकाउंट्स को ब्लॉक करना शुरू कर दिया है। किसान नेता सुरजीत फुले और रमनदीप मान के अकाउंट ब्लॉक कर दिया गया है।

Haryana Farmers Protest

दिल्ली में धारा 144 लगाई गई: दिल्ली में किसानों के मार्च को देखते हुए एक महीने के लिए धारा 144 लागू कर दी गई है! सिंघु और टिकरी समेत दिल्ली के सभी बॉर्डर बंद कर दिए गए हैं! दिल्ली में लोगों के इकट्ठा होने, लाउडस्पीकर और ट्रैक्टरों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया गया। इसके साथ हथियारों से लेकर लाठी-पत्थर भी दिल्ली में नहीं ले जाने दिए जाएंगे।

Haryana Farmers Protest: Highlights

  • चीफ जस्टिस- बैरिकेडिंग की वजह से कोर्ट नहीं पहुंच पा रहे तो गैरहाजिर नहीं माना जाएगा
  • बॉर्डर पर 64 कंपनियां तैनात
  • हरियाणा के 7 जिलों में मोबाइल इंटरनेट बंद
  • अंबाला से शंभू बॉर्डर तक 3 जगह बैरिकेडिंग
  • सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की चीफ जस्टिस को चिट्ठी
  • किसान नेता पंधेर ने बुलाई प्रेस कॉन्फ्रेंस
  • दिल्ली-नोएडा के चिल्ला बॉर्डर पर जाम
  • शंभू बॉर्डर पर भारी पुलिसबल तैनात
Haryana Farmers Protest
  • शंभू बॉर्डर पर ट्रैक्टर पहुंचने शुरू
  • अमृतसर-दिल्ली फ्लाइट्स के रेट 3 गुना बढ़े
  • किसान नेता पंधेर बोले- हरियाणा को कश्मीर बना दिया
  • राजस्थान के 3 जिलों में इंटरनेट बंद
  • गाजीपुर बॉर्डर पर प्रति किलोमीटर एक घंटा जाम
  • 2 साल पहले 378 दिन चला था किसान आंदोलन

पल पल की खबर के लिए IBN24 NEWS NETWORK का YOUTUBE चैनल आज ही सब्सक्राइब करें।चैनल लिंक : https://youtube.com/@IBN24NewsNetwork?si=ofbILODmUt20-zC3

ये भी पढ़ें: क्या किसान बढ़ाएंगे बीजेपी की मुश्किलें या इस बार कमजोर पड़ जाएगा किसान आंदोलन?

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here