HomeOthersचक्रवृद्धि ब्याज ने ली किसान की जान : कर्ज के 3.5 लाख...

चक्रवृद्धि ब्याज ने ली किसान की जान : कर्ज के 3.5 लाख को ब्याज लगाकर बना दिया 2 करोड़! जानें पूरा मामला

करौली| करौली जिले के नादौती इलाके में एक किसान ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. किसान के परिजनों का आरोप है कि उसने साहूकार से 10-12 साल पहले साढ़े तीन लाख रुपये कर्ज लिया था. लगातार कर्ज की किस्तें चुकाते रहने के बावजूद सूदखोर ने उस पर अपनी मनमर्जी का चक्रवृद्धि ब्याज लगाकर कर्ज की इस राशि को दो करोड़ रुपये कर दिया. इससे तंग आकर उसने सुसाइड कर लिया. पुलिस ने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में किसान के शव का पोस्टमार्टम करवाकर उसे परिजनों के सुपर्द कर दिया है. उसके बाद गमगीन माहौल में उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया.

पुलिस के अनुसार घटना नदौती थाना इलाके के सोप गांव की है. किसान कमलराम मीणा ने बुधवार को अपने घर के पास स्थित खेत में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. उसका शव बबूल के पेड़ पर रस्सी से लटका मिला. इसकी सूचना से कमलराम के परिवार में कोहराम मच गया. बाद में पुलिस को सूचना दी गई. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को अपने कब्जे में ले लिया. फिर शव का पोस्टमार्टम करवाकर उसे परिजनों के सुपुर्द कर दिया.

सूदखोर ने मनगढंत तरीके से लगाया ब्याज

किसान कमलराम मीणा के पुत्र हरिचरण ने बताया कि उसके पिता ने 10-12 वर्ष साल पहले भरोसीलाल मीना ऑपरेटर से 3.5 लाख रुपये का कर्ज लिया था. उसके बाद किस्तों में काफी कर्ज चुका दिया था. खेतों में जो भी फसल पैदा होती थी वे उसे देते रहे. हरिचरण का आरोप है की भरोसीलाल ने मनगढ़ंत तरीके से ब्याज दर ब्याज लगाकर उसे दो करोड़ रुपये तक पहुंचा दिया. वह कर्ज चुकाने के लिए उसके पिता को लगातार प्रताड़ित कर रहा था.

30 बीघा जमीन और घर हड़पना चाहता था सूदखोर

पिछले दिनों भी भरोसीलाल ने उनके घर आकर पिता को भद्दी गालियां दी. कर्ज चुकता करने के लिए उसके पिता अपनी 18 बीघा जमीन उसके नाम करने को भी तैयार थे. हरिचरण का आरोप है कि सूदखोर पूरी 30 बीघा जमीन और उनका घर लेना चाहता था. उसने पूरी जमीन अपने नाम करवाने के लिये उसके पिता पर दबाव डाला. इससे तंग आकर उसके पिता ने आत्महत्या कर ली.

सूदखोर समेत तीन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज

मृतक किसान के परिजनों ने सूदखोर भरोसीलाल और उसके दो साथियों हेमराज व हरकेश के खिलाफ नादौती पुलिस थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है. हेमराज और हरकेश पर बलपूर्वक किसान का खेत जोतने का आरोप है. किसान कमलराम मीणा ग्रामीण गायन मंडलियों में गायक का भी काम करता था. स्थानीय भाषा में उसे मेडिया कहते हैं. किसान के दो लड़के और दो लड़की हैं. उसका एक बेटा रेलवे में नौकरी करता है. वहीं दूसरा मजदूरी करता है. फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी है.

Html code here! Replace this with any non empty raw html code and that's it.
RELATED ARTICLES

Most Popular