Hormonal imbalance in Females: महिलाओं में बिगड़ते हार्मोंस बैलेंस के ये हैं लक्षण, शरीर देने लगता है कुछ ऐसे संकेत

0
391
Hormonal imbalance in Females
Hormonal imbalance in Females

Hormonal imbalance in Females: महिलाओं के शरीर में समय-समय पर हार्मोनल बदलाव होते रहते हैं। हालांकि, लंबे समय तक हार्मोनल असंतुलन का स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। जानिए हार्मोनल असंतुलन होने पर शरीर में क्या लक्षण उत्पन्न होते हैं। जिससे आप इसे समझ सकते हैं।

Hormonal imbalance in Females

8 मार्च को पूरी दुनिया अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मनाती है। कई महिला स्वास्थ्य जागरूकता कार्यक्रम भी चल रहे हैं। अगर आप महिलाओं के स्वास्थ्य को बरकरार रखना चाहते हैं तो सबसे जरूरी है महिलाओं के स्वास्थ्य का ख्याल रखना। जैसे-जैसे महिलाओं की उम्र बढ़ती है, उनके शरीर में हार्मोन कई बार बदलते हैं। हार्मोन शरीर के विभिन्न कार्यों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और जब शरीर में हार्मोनल संतुलन गड़बड़ा जाता है, तो विभिन्न समस्याएं शुरू हो जाती हैं। लगातार और लंबे समय तक हार्मोनल असंतुलन महिलाओं को चिंतित कर सकता है। क्या आप जानते हैं कि जब आपके शरीर में हार्मोनल संतुलन गड़बड़ा जाता है तो क्या लक्षण उत्पन्न होते हैं?

Hormonal imbalance in Females: हार्मोनल संतुलन बिगड़ने पर शरीर में होते हैं ये लक्षण

Hormonal imbalance in Females: पीरियड्स में अनियमितता- यदि आप लंबी अवधि में अपने मासिक धर्म की तारीख में बदलाव देखते हैं, जैसे: बी. जल्दी शुरू होना या देरी होना, तो यह हार्मोनल परिवर्तन का संकेत हो सकता है। आपको पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) या थायरॉयड जैसी समस्याओं के लिए परीक्षण करवाना चाहिए।

Hormonal imbalance in Females: वज़न बढ़ना या कम होना- यदि आपके जीवन में कोई बड़ा बदलाव नहीं हुआ है, लेकिन आप तेजी से वजन बढ़ने या घटने का अनुभव कर रहे हैं, तो यह हार्मोनल असंतुलन का संकेत हो सकता है। हार्मोनल स्वास्थ्य में सुधार के लिए अपने वजन में बदलाव की निगरानी करें। थायरॉइड डिसफंक्शन या इंसुलिन प्रतिरोध जैसी हार्मोनल समस्याओं के लिए परीक्षण करवाएं।

Hormonal imbalance in Females: त्वचा संबंधी समस्याएं- त्वचा पर हार्मोनल बदलाव के लक्षण भी दिखते हैं। मुंहासे, तैलीय त्वचा या अत्यधिक रूखापन भी हार्मोनल असंतुलन का संकेत हो सकता है। अगर आपको अक्सर ऐसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है, तो आपको डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए।

Hormonal imbalance in Females
3D Isometric Flat Vector Conceptual Illustration of Female Hormone Imbalance

Hormonal imbalance in Females: मूड स्विंग्स- हार्मोनल असंतुलन के कारण मूड में बदलाव, चिड़चिड़ापन, चिंता या अवसाद भी हो सकता है। मूल कारण जानने के लिए एक मूड डायरी रखें और पैटर्न नोट करें। यदि समस्या गंभीर है, तो आपको चिकित्सा लेनी चाहिए या डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।

Hormonal imbalance in Females: थकान और ख़राब नींद- लगातार थकान, ऊर्जा की कमी और ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई भी हार्मोनल असंतुलन के संकेत हो सकते हैं। अपनी जीवनशैली, जैसे कि अपनी नींद के पैटर्न, पर ध्यान दें और अपने तनाव के कारण की पहचान करने का प्रयास करें। अगर समस्या गंभीर है तो डॉक्टर से सलाह लें।

Hormonal imbalance in Females: बालों का झड़ना- बालों का झड़ना, पतला होना या बालों की बनावट में बदलाव भी स्वास्थ्य समस्याओं से जुड़ा हो सकता है। हार्मोनल बदलाव भी इसका कारण हो सकता है। इसलिए स्वस्थ आहार पर ध्यान दें और तनाव से बचें। अगर समस्या अधिक बढ़ जाए तो अपने डॉक्टर से सलाह लें।

पल पल की खबर के लिए IBN24 NEWS NETWORK का YOUTUBE चैनल आज ही सब्सक्राइब करें।चैनल लिंक : https://youtube.com/@IBN24NewsNetwork?si=ofbILODmUt20-zC3

यह भी पढ़ें – How To Lose Weight Fast: मोटापे की दुश्मन है ये चीज, 1 कटोरा भरकर खाएंगे तो भी महीनेभर में कम हो जाएगा वजन

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here