History behind Leap Year: क्या होता अगर कैलेंडर में नहीं होता लीप ईयर? ऐसे ही दुनिया में नहीं आ गया ये, दिलचस्प है ये कहानी…

0
343
History behind Leap Year
History behind Leap Year

History behind Leap Year

History behind Leap Year : पूर्व और पश्चिम में ज्योतिषियों ने हमेशा कैलेंडर में सुधार करने की कोशिश की है। भारत के हिंदू पंचाग या हिंदू कैलेंडर को लेकर यह दावा किया जाता है कि उसे कभी सुधार की जरूरत नहीं पड़ी और कई हजार वर्षों तक ऐसा नहीं होगा। हालाँकि, पश्चिमी देशों में, विशेषकर यूरोप में, कैलेंडर की एक अलग तारीख होती है।

History behind Leap Year

आमतौर पर यह माना जाता था कि पृथ्वी 365 दिनों में सूर्य की परिक्रमा करती है, इसलिए वर्षों को 365 दिन निर्धारित किया गया। हालाँकि, पृथ्वी को सूर्य की परिक्रमा करने में 365.5 दिन लगते हैं। इस अतिरिक्त समय की भरपाई हर चार साल में एक दिन जोड़कर की जाती है; ऐसे वर्षों को लीप वर्ष कहा जाता है।

History behind Leap Year : यही वजह है कि इस साल फरवरी का महीना 28 दिन का ना होकर 29 दिन का होगा. कैलेंडर बदलने की आवश्यकता सबसे पहले प्राचीन रोम में महसूस की गई थी। उस समय चंद्र कैलेंडर वर्ष 355 दिन का होता था। रोमनों को एहसास हुआ कि उनका कैलेंडर तालमेल से बाहर था। इस समस्या को हल करने के लिए उन्होंने सबसे पहले हर दो साल में कैलेंडर में मर्सिडोनियसनाम का एक और महीना कैलेंडर में जोड़ दिया.

History behind Leap Year

History behind Leap Year : 45 ईसापूर्व में रोमन शासक जूलियस सीजर ने सौर कैलेंडर की शुरुआत की जो मिस्र में बनाए गए कैलेंडर के आधार पर था. इसमें हर चार साल में एक दिन जोड़ा जाता था. समय के साथ लोगों ने यह महसूस किया कि पृथ्वी सूर्य का चक्कर 365.25 दिनों में नहीं लगाती है बल्कि इसमें 365.24219 दिन का समय लगता है. यानी और सुधार की जरूरत थी.

History behind Leap Year

History behind Leap Year : 1582 में, पोप ग्रेगरी 13 ने छोटा सा बदलाव किया। उन्होंने कहा कि हर चार साल में फरवरी में एक दिन जोड़ा जाएगा, लेकिन लीप वर्ष का नियम हर शताब्दी वर्ष, जैसे 1700, 2100 आदि में लागू नहीं होगा। लेकिन वह साल 400 से विभाजित नहीं होना चाहिए इस कैलेंडर में सुधार काफी कारगर रहा और आज भी इसे ग्रेगोरियन कैलेंडर के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है.

History behind Leap Year : लेकिन यदि कोई लीप ईयर न हो तो क्या होगा कि धीरे धीरे सभी मौसमों का तालमेल गड़बड़ा जाता. इसी कारण पृथ्वी पर सबसे छोटे और सबसे लंबे दिन अलग-अलग दिन पड़ने लगते और एक समय आता जब किसानों तक को अपनी बुआई के सही समय का अंदाजा नही हो पाता और सबसे बड़ी बात यह है कि मौसम और सूर्य की गति के अनुसार अहम तारीखें ही बदल जातीं.

ये भी पढ़े लंबी बीमारी के बाद 72 साल की उम्र में ली अंतिम सांस, 2006 में मिला था पद्मश्री

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here