FASTag होने के बावजूद भी अब मुफ्त में कर सकते हैं टोल क्रॉस…

नेशनल हाईवे के कई टोल प्लाजा पर वाहन चालकों को लंबा जाम मिल रहा है जिससे उन्हें काफी देर तक रुकना पड़ रहा है. टोल प्लाजा पर ये जाम आधे से एक घंटे का है. ऐसा तब से हो रहा है जबसे सरकार ने ये ऐलान कर दिया है कि अब टोल क्रॉस करने के लिए हर गाड़ी पर फास्टैग होना जरूरी है. लेकिन अब नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया इन लंबे जाम को कम करने का तरीका निकाल लिया है.

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, एजेंसी अब टोल प्लाजा ऑपरेटर्स को ये आदेश देगी कि वो गाड़ियों को बिना टोल भरे ही जानें दें. लेकिन ऐसा तभी मुमकिन होगा अगर जाम लंबा होगा और वाहन चालक कई घंटे से फंसे रहेंगे. रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि, इसके लिए एक मुफ्त लेन बनाई जाएगी जिसपर अभी काम किया जा रहा है.

सिर्फ 7 राज्यों में हो रहा Fastag से पेमेंट

बता दें कि 1 जनवरी से सभी चार व्हीलर और दूसरे गाड़ियों के लिए सरकार ने फास्टैग को जरूरी कर दिया है. ऐसे में नेशनल हाईवे के मात्र 112 प्लाजा पर ही टोल स्मार्ट टैग से लिया जा रहा है. ये प्लाजा कुल 7 राज्यों में हैं. ज्यादातर नगर निगम को अभी भी एंट्री टैक्स कलेक्शन के लिए फास्टैग का इस्तेमाल करना बाकी है. दिल्ली में नगर निगम ने कमर्शियल गाड़ियों के लिए एक अलग RFID टैग जारी किया है.

बता दें कि फिलहाल स्मार्ट टैग का इस्तेमाल पार्किंग फी देने के लिए कहीं भी नहीं किया जा रहा है. दिल्ली के IGI एयरपोर्ट और द्वारका के कुछ जगहों पर पार्किंग फी को फास्टैग से देने के लिए एक पायलट स्टडी का आयोजन किया गया था.

ऑफिशियल डेटा की अगर बात करें तो फिलहाल पूरे नेशनल हाईवे नेटवर्क पर कुल 670 टोल प्लाजा है. NHAI के एक प्रवक्ता ने कहा कि, नेशनल हाईवे के हर टोल प्लाजा पर फास्टैग से ट्रांजैक्शन हो रहा है जहां ये आंकड़ा अब 85 प्रतिशत तक पहुंच चुका है.

हैदराबाद के 19 और महाराष्ट्र के 18 प्लाजा पर फास्टैग से हो रहा है पेमेंट

राज्य सरकार की अगर बात करें तो हैदराबाद के 19 टोल प्लाजा, महाराष्ट्र सरकार के स्टेट रोड डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन के 18, मध्यप्रदेश के 17 टोल सड़कों पर फास्टैग से टोल लिया जा रहा है. यानी की वाहन चालक यहां फास्टैग से पेमेंट कर सकते हैं. वहीं ये आंकड़ा गुजरात में 13, कर्नाटक में 15 और तमिलनाडु में फिलहाल 10 है.

Advertisement