प्रदेश में महिला थाने सरकार की अनूठी पहल, पढ़िए पूरी खबर !

इंडिया ब्रेकिंग/करनाल रिपोर्टर(सिमरजीत कौर)  हरियाणा राज्य महिला आयोग की सदस्य नम्रता गौड़ ने कहा कि प्रदेश में महिला थाने स्थापित करने से महिलाओं के प्रति अपराधों में कमी आई वहीं महिलाओं को उचित न्याय भी मिलना शुरू हो गया है। इन थानों के माध्यम से महिलाएं अपनी बात बेझिझक रख सकती हैं। हरियाणा सरकार की यह पहल महिलाओं के लिए अनूठी साबित हो रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में महिलाओं को आगे बढऩे के अवसर प्रदान करना वर्तमान सरकार की प्राथमिकता है। वन स्टॉप सैंटर फॉर वुमन (सखी), जिला मुख्यालयों पर महिला थाने तथा उपमंडल स्तर पर महिला हैल्प डैस्क की स्थापना सरकार की महिला सुरक्षा के प्रति संवेदनशीलता को दर्शाती है।

नम्रता गौड़ ने बुधवार को करनाल जिला में महिला थाना, सामान्य अस्पताल, महिला आश्रम, वृद्धाश्रम, रैन बसेरा व जिला कारागार का निरीक्षण किया। इस निरीक्षण के दौरान उन्होंने संबंधित विभाग के कार्यालयों में व्यवस्थाओं को जाना और उन्हें आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। इस निरीक्षण के दौरान उन्होंने मीडियाकर्मियों को जानकारी देते हुए बताया कि समाज में महिलाओं एवं पुरूषों का समान अधिकार है, महिलाएं अपने अधिकार से वंचित न रहें इसके लिए सरकार ने महिलाओं के लिए विशेष योजनाएं चलाई हैं। महिला थानों में पहले की अपेक्षा अब महिलाओं की सुनवाई होती है। समय-समय पर हरियाणा महिला आयोग द्वारा महिलाओं के अधिकारों की जानकारी के लिए महिला थानों व अन्य संस्थानों में औचक निरीक्षण किया जाता है ताकि महिलाएं अपने अधिकार से वंचित न रहें।

उन्होंने अपने निरीक्षण के दौरान महिला थाने में तैनात कर्मचारियों को स्पष्ट निर्देश दिए कि थाने में शिकायत लेकर आई महिला के साथ सौहार्दपूर्ण व्यवहार किया जाए और उसकी शिकायत को प्राथमिकता के आधार पर लिया जाए। उन्होंने थाने की इंचार्ज कविता से कहा कि न्याय के लिए आई महिला को किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए तथा उसकी सुरक्षा से संबंधित सभी इंतजाम किए जाएं। हिरासत में ली गई महिला के साथ आए बच्चों को भी सुरक्षित वातावरण मिले और उनके खेलने के लिए अलग कमरे में सामान के साथ समुचित व्यवस्थाएं भी की जाएं। अपने दौरे के दौरान उन्होंने थाने में शिकायत बॉक्स लगवाने के लिए भी निर्देश दिए।

इसके बाद महिला आयोग की सदस्य ने शहर के नागरिक अस्पताल का भी दौरा किया जहां उन्होंने अस्पताल में भर्ती मरीजों से उनका हाल चाल जाना और मिल रही सुविधाओं के बारे में विस्तृत जानकारी ली। उन्होंने अस्पताल में मौजूद एम्बुलैंस, कॉरोना वायरस से संबंधित आईसोलेटिड वार्ड के साथ-साथ हाजिरी रजिस्टर का भी अवलोकन किया तथा सिविल सर्जन को अस्पताल में स्वच्छता को बनाए रखने के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। इसके उपरांत सदस्य ने महिला आश्रम और नारी निकेतन में महिलाओं से बातचीत की तथा जिला कारागार में बंदियों और कैदियों से भी मिलने वाली सुविधाओं के बारे में विस्तृत जानकारी ली। उन्होंने रैन बसेरे का भी निरीक्षण किया। इस मौके पर डीपीओ राजबाला, पुष्पा गुप्ता, किरण उपस्थित रही।

Advertisement