उद्घाटन के तीसरे दिन ही हादसे की गवाह बनी ‘अटल टनल’, 3 गाड़ियां टकराईं, नियमों की उड़ी धज्जियां

अपने उद्घाटन के तीसरे दिन ही अटल टनल रोहतांग हादसे की गवाह बनी. 5 अक्टूबर को टनल के अंदर पहला हादसा हुआ. टनल में एक चालक ने अपना नियंत्रण खो दिया. परिणाम स्वरूप तीन गाड़ियां आपस में टकरा गईं. मिली जानकारी के मुताबिक ओवर स्पीड के साथ ओवरटेक की कोशिश की जा रही थी.

चालक अधिक स्पीड से गाड़ी चला रहा था, जैसे ही उसने गाड़ी की स्पीड कम करने की कोशिश की हादसा हो गया. किस्मत से चालक सुरक्षित हैं. यह दुर्घटना सुरंग के अंदर लगे CCTV कैमरों द्वारा रिकॉर्ड की गई थी. बताते चलें, टनल में 40 से 80 तक वाहनों की रफ्तार निर्धारित की गई है, जिसका कई लोग फिलहाल पालन नहीं कर रहे हैं.

“कई पर्यटकों और मोटर चालकों ने नई खुली अटल सुरंग में ओवर-स्पीड से रेसिंग की है, जो अधिकारियों के लिए चिंता का विषय है. पर्यटकों और मोटर चालकों द्वारा यातायात नियमों का पूरी तरह से पालन नहीं किया जा रहा है. कई लोग तो गाड़ी चलाते हुए सेल्फी क्लिक हुए कैमरे में कैद हुए हैं. यही कारण है कि प्रशासन ने तय किया है कि यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों का सख्ती से चालान काटा जाएगा. साथ ही नियमों की लगातार अनदेखी करने वालों पर कार्रवाई की जाएगी”

गौरतलब हो कि हाल ही में प्रधानमंत्री मोदी ने इस सुरंग का उद्घाटन किया है. करीब 9.02 किलोमीटर लंबी ये टनल मनाली को लाहौल स्फीति से जोड़ती है. यह पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का ड्रीम प्रोजेक्ट था. इस परियोजना की आधारशिला यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 2010 में रखी थी.

Advertisement