हरियाणा की सबसे ऊंची चोटी पर बसे गांवों में बनेंगे उप स्वास्थ्य केंद्र

Advertisement

------------- Advertisement -----------

हरियाणा की सबसे ऊंची चोटी के लोगों को भी जल्द ही स्वास्थ्य सुविधाएं मिलेंगी। दशकों से अधिकारियों के कार्यालयों में धूल फांक रही आठ उप स्वास्थ्य केंद्र की फाइलों से धूंल हटने लगी है। इन आठ उप स्वास्थ्य केंद्रों के निर्माण व जगह के चयन को लेकर डिप्टी सीएमओ संदीप जैन की अध्यक्षता में टीम गठित कर दी गई है। टीम ने मामले को प्राथमिकता देते हुए पिछले दो सप्ताह के दौरान राजी टिकरी व टीपरा पंचायत में निरीक्षण कर फिजिबिलिटी रिपोर्ट उच्च अधिकारियों को भेज दी है। वहीं तीसरा उप स्वास्थ्य केंद्र टिक्कर ताल में बनाया जाना निर्धारित है। इसका भी निरीक्षण टीम जल्द करेगी। आपको बता दें कि तीनों जगहों पर किसान दशकों पहले जमीन दान कर चुके हैं।

कहां-कहां बनाए जाने हैं उप स्वास्थ्य केंद्र

Advertisement

हरियाणा की सबसे ऊंची चोटी टीपरा के अलावा राजी टिकरी, टिक्कर ताल, पलासरा, मोरनी, कोठी कोटी, मांधना के अलावा धारला में ये उप स्वास्थ्य केंद्र बनाए जाने हैं। उप स्वास्थ्य केंद्र का निर्माण तभी करवाया जा सकता है, जब पंचायत या फिर कोई व्यक्ति जमीन दान कर स्वास्थ्य विभाग के नाम पर करे। मोरनी स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी डॉ. उज्ज्वलजीत सिंह ने बताया कि उन्हें अभी तक राजी टिकरी, टीपरा व टिक्कर पंचायतों का पता लगा है, जिनमें ग्रामीणों ने विभाग के नाम पर जमीन दी है। जैसे ही अन्य सब सेंटर के ग्रामीण जमीन दान करते हैं तो वहां की फिजिबिलिटी रिपोर्ट तैयार कर उच्च अधिकारियों को भेज देंगी।

उप स्वास्थ्य केंद्रों के निर्माण से ग्रामीणों को होगा फायदा

एकमात्र स्वास्थ्य केंद्र मोरनी में 23 पंचायतों के ग्रामीण अपने इलाज को आते हैं। ऐसे में उन्हें एक तरफ 30 किलोमीटर का सफर भी तय करना पड़ता है। जिसमें समय के साथ आर्थिक नुकसान भी होता है। उप स्वास्थ्य केंद्र के निर्माण से दुर्गम इलाकों में रहने वाले ग्रामीणों को समय पर इलाज मिलेगा और पैसा व समय की बचत होगी।

Advertisement