सबसे कम उम्र में PhD करने वाले तुलसी, 10 की उम्र में MSc, 23 की उम्र में IIT बॉम्बे में टीचर

तथागत अवतार तुलसी. इन दिनों ये खूब चर्चा में हैं. 9 सितंबर 1987 में बिहार में जन्मे तुलसी के पिता सुप्रीम कोर्ट में एडवोकेट हैं. उनके पेरेंट्स ने शुरुआती दिनों में ही इनकी प्रतिभा को समझ लिया. आज तुलसी सबसे कम उम्र में हाईस्कूल, ग्रेजुएशन, मास्टर और अब पीएचडी करने वाले शख्स हैं.

तुलसी ने 10 साल की उम्र में बीएससी की परीक्षा पास की थी. इसके बाद पटना साइंस कॉलेज से बीएससी और फिर मास्टर की डिग्री पूरी की. अब उन्होंने 21 साल की उम्र में आईआईएससी से फिजिक्स में पीएचडी की पढ़ाई पूरी की है.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया से बात करते हुए वह कहते हैं, मेरा मानना है कि मुझे वरदान मिला है. जब मैं छोटा था और मेरे दोस्त मैथ्स के छोटे-छोटे सवाल सॉल्व करने में परेशान रहते थे, मैं उनसबको आसानी से सॉल्व कर लेता था. तुलसी ने यंगेस्ट डॉक्टोरेट (PhD) और शॉर्टेस Phd थिसिस के लिए लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में अप्लाई किया है.उन्होंने आईआईएससी 15 साल की उम्र में ज्वाइन किया था.

तुलसी बहुत छोटी उम्र से लाइमलाइट में हैं. साल 2001 में उन्हें भारत सरकार के डिपार्टमेंट ऑफ़ साइंस एंड टेक्नॉलजी (DST) ने जर्मनी में होने वाले Nobel laureates Conference के लिए नामित किया था. TIME मैग्जीन ने भी साल 2003 में उन्हें Superteen के तौर पर छापा था.

23 साल की उम्र में तुलसी को आईआईटी बॉम्बे में पढ़ाने का न्यौता मिल गया था. वह वहां 8 साल तक पढ़ाए.

Advertisement