कोविड-19 प्रोटोकोल के तहत करनाल के इस गाँव को केटोन्मेंट जोन घोषित किया गया

रसीन गांव के एक व्यक्ति में कोरोना संक्रमण पॉजीटिव पाए जाने पर कोविड-19 प्रोटोकोल के तहत गांव को किया केटोन्मेंट जोन घोषित तथा साथ लगते गांवो को बनाया बफर जोन- डीसी निशांत कुमार यादव।

प्रशासन ने स्थिति पर नियंत्रण के लिए किया एक्शन प्लान तैयार, सम्बंधित विभाग के अधिकारियों को दिए आवश्यक दिशा-निर्देश।   

इंडिया ब्रेकिंग/करनाल रिपोर्टर(ब्यूरो) करनाल 3 अप्रैल, उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने कोविड-19 के प्रोटोकॉल के तहत घरौंडा ब्लॉक के गांव रसीन निवासी एक व्यक्ति में पीजीआई चण्डीगढ़ से प्राप्त कोरोना वायरस की पॉजीटिव रिपोर्ट मिलने के तुरंत बाद ही पूरे गांव को केटोन्मेंट जोन तथा गांव हसनपुर, उपली तथा साथ लगते गांवो को बफर जोन घोषित कर दिया है।

उपायुक्त ने बताया कि लोगों को इस परिस्थिति से घबराने की जरूरत नही हैं, प्रशासन द्वारा इस स्थिति पर नियंत्रण के लिए एक्शन प्लान तैयार कर लिया गया है तथा सम्बंधित विभाग के अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं। घरौंडा के एसडीएम तथा डीएसपी को स्थिति पर नियंत्रण रखने के लिए नोडल बनाया गया है।

उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन के दौरान कोविड से संक्रमित एक व्यक्ति की पॉजीटिव रिपोर्ट सामने आई है। बीती 25 मार्च को उसे संदिग्धता के आधार पर शहर के कल्पना चावला राजकीय मैडिकल कॉलेज में दाखिल करवाया गया था। इस दौरान बीती 1 अप्रैल को उसकी तबीयत बिगड़ गई और उसे पीजीआई चण्ड़ीगढ रैफर कर दिया गया। पीजीआई में गुरूवार को उसका सैम्पल लिया गया और आज रिपोर्ट पॉजीटिव आई है। पीजीआई के डॉक्टरों के अनुसार उसकी हालत में सुधार भी हो रहा है।

उपायुक्त ने बताया कि कोरोना से संक्रमित व्यक्ति के परिवारजनों के साथ-साथ आस-पास के लोगों और यहां तक की पूरे गांव को सील कर उसे अन्य गांव से आईसोलेट कर दिया है। पर्याप्त पुलिस बल की तैनाती ओर नाके लगा दिए गए हैं। इस दौरान कोई भी व्यक्ति बाहर से गांव में प्रवेश नहीं करेगा, न ही अंदर से व्यक्ति बाहर आएगा। उन्होंने बताया कि लोक निर्माण विभाग (बी एंड आर) के कार्यकारी अभियंता को गांव में पक्के नाके लगाने के निर्देश दे दिए गए हैं।

उन्होंने बताया कि सिविल सर्जन को आदेश दिए गए हैं कि रसीन गांव के सभी लोगों की स्क्रीनिंग की जाए, उम्मीद है यह कार्य आज शाम तक हो जाएगा, ताकि ओर लोगों का भी पता लगाया जा सके। इसके लिए डिप्टी सिविल सर्जन के नेतृत्व में खण्ड के एसएमओ, अन्य डॉक्टरो की टीम व एपीडेमियोलॉजिस्ट भी मौके पर पहुंच गए हैं। उन्होंने बताया कि किसी भी आपातकालीन स्थिति की सूरत में कल्पना चावला मैडिकल कॉलेज के निदेशक व सिविल सर्जन यहां के लोगों को सभी स्वास्थ्य सम्बंधी मैडिकल सुविधाएं उपलब्ध करवाएंगे।

उपायुक्त ने बताया कि खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी को आदेश देकर कहा गया है कि वे पूरे एरिया को सैनेटाईज़ करवाएं। मार्किट बोर्ड के क्षेत्रीय प्रबंधक, एमडी शुगर मिल के सहयोग से गांव में लोगों को राशन, सब्जी और दूध इत्यादि पहुंचाना सुनिश्चित करेंगे। प्रकार बिजली तथा स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को आदेशित किया गया है कि वे गांव में दोनो चीजो की व्यवस्था सुनिश्चित करें। जी.एम. रोडवेज़ बसों की व्यवस्था करेंगे।

उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने करनाल के लोगों से अपील की है कि उन्हें किसी भी तरह से डरने की आवश्यकता नहीं है, सभी लोग लॉकडाउन का पूरी तरह से पालन करें और एक-दूसरे से सामाजिक दूरी बनाए रखें। उन्होंने भरोसे के साथ कहा कि इस एक मामले का फैलाव नहीं होने दिया जाएगा, ऐसी स्थिति से निपटने के लिए प्रशासन पूरी तरह से तैयार है। अगले एक-दो दिन में इस पर काबू कर लिया जाएगा। अफवाहों पर भी ध्यान न दें।

Advertisement