हरियाणा के माथे पर लगा ये बड़ा कलंक, जानिए पूरी खबर

करनाल। हरियाणा के माथे पर बहुत बड़ा कलंक लगा है जो प्रदेश के लोगों को शर्म महसूस करा देने के लिए तथा अपनों पर अधिक ध्यान देने के लिए काफी है। खेलने-पढ़ने की उम्र में जिंदगी की भयावहता से बेटियों की तमाम खुशियां कोने में दुबक गई है। प्रदेश में हर तीन दिन में एक बच्ची यौन शोषण का शिकार हो रही है। बच्चियों नाबालिग बालिकाओं के साथ हुई शर्मसार कर देने वाली घटनाओं ने सभी को झकझोर कर दिया है। परिजनों को भी अब चिंता सताने लगी है।

वैसे तो हरियाणा सरकार ने बच्चियों से दुष्कर्म पर रोक लगाने के लिए सख्त कानून बनाए हैं मगर इन कानूनों के बावजूद भी हर तीसरे दिन एक नाबालिग बच्चियां रेप का शिकार हो रही हैं। 2020 में अब तक 115 दुष्कर्म के मामले सामने आए हैं। ये मामले तो वे हैं जिनमें एफआईआर दर्ज है, बहुत से मामले ऐसे होते हैं जिनमें नाबालिगा के परिजन डर के मारे सामने नहीं आते और पुलिस को शिकायत नहीं देते या बहुत से मामलों में परिजनों को डराकर समझौता करवा लिया जाता है।

इस वर्ष नाबालिग लड़कियों से दुष्कर्म के मामलों में मामूली गिरावट देखने को मिली है, जिसका एक मात्र कारण लॉकडाउन माना जा रहा है मगर उसके बावजूद भी इस वर्ष अब तक 115 मामले नाबालिगा से दुष्कर्म के सामने आए हैं। शिकार हो रही ज्यादातर लड़कियां 14 से 16 वर्ष की हैं। इतना ही नहीं दुष्कर्म करने वाले आरोपी पीड़िता के रिश्तेदार, पड़ोसी या जान-पहचान वाले होते हैं जो पहले उसके घर में आना-जाना करते हैं और मौका पाकर इस तरह की वारदात को अंजाम दे जाते हैं।

नाबालिगों से दुष्कर्म के मामलों में इस वर्ष मामूली गिरावट देखने को मिली है। इस वर्ष 115 मामले सामने आए हैं, जबकि पिछले वर्ष 2019 में 130 मामले नाबालिगा से दुष्कर्म के सामने आए थे। वहीं वर्ष 2018 में  दुष्कर्म के 111 मामले सामने आए थे। इस वर्ष जनवरी से मार्च तक 31 मामले सामने आए, जबकि अप्रैल से जून तक 22 मामले दर्ज हुए। जुलाई से सितम्बर तक 33 मामले सामने आए। अक्तूबर माह में 17 मामले दुष्कर्म के सामने आए। नवम्बर में 7 मामले सामने आए तथा दिसम्बर माह में अब तक 5 मामले सामने आ चुके हैं। इन ज्यादातर मामलों में पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है।

सीएम सिटी में दुष्कर्म का ताजा मामला सामने आया है, जिसमें एक 16 वर्षीय नाबालिग लड़की को घर छोडऩे के नाम पर एक युवक ने दुष्कर्म किया। पुलिस ने केस दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार पानीपत निवासी लड़की सहेली के पास करनाल आई हुई थी। देर सायं घर वापस जाने की बात कहकर करनाल बस स्टैंड पर आ गई मगर वहां उसको पानीपत जाने के लिए बस नहीं मिली।

लड़की का आरोप है कि आरोपी उसे कार में बिठाकर ले जा रहा था मगर वह जी.टी. रोड पर जाने की बजाय, सुनसान रास्ते पर ले गया, जहां उसने उसके साथ दुष्कर्म किया। उसके बाद आरोपी उसे घर छोड़ आया। इस बारे लड़की ने अपनी मां को सारी बात बताई जिसके बाद मामले की शिकायत पुलिस को दी गई। पुलिस ने तुरंत केस दर्ज कर लड़की का मैडीकल करवा उसको बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया, जहां उसकी काउंसलिंग की जा रही है। मामले की जांच अधिकारी सुनिता देवी ने बताया कि आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

बाल कल्याण समिति के चेयरमैन उमेश चानना ने बताया कि लड़की की काउंसलिंग की जा रही है। उन्होंने सभी परिजनों से कहा कि अपने बच्चों का पूरा ध्यान रखें। वे कब कहां जा रहे हैं, कहां से आ रहा है। इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि घर में आने वाले युवकों पर भी नजर रखें कि वे किस कार्य से आ रहा है। बच्चों को जागरूक करें ताकि वे किसी अनहोनी का शिकार न हो सकें। उन्होंने कहा कि यदि कहीं पर भी कोई नाबालिग बच्चे का शोषण हो रहा है, तो वे तुरंत मामले की शिकायत पुलिस को दें।

Advertisement