घरेलू उड़ानों के लिए बनाए ये नियम

नई दिल्ली. नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने बुधवार को कहा कि 25 मई से कुछ डोमेस्टिक फ्लाइट शुरू हो जाएंगी। एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एएआई) ने आज पैसेंजर और एयरपोर्ट ऑपरेटर्स के लिए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (एसओपी) भी जारी कर दिया है। 14 साल तक के बच्चों को छोड़ बाकी सभी यात्रियों को आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करना जरूरी होगा। नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने भी गाइडलाइन जारी की हैं। एएआई के एसओपी और मंत्रालय की गाइडलाइंस को सवाल-जवाब में समझिए-

क्या फिजिकल चेक-इन कर सकेंगे?

इस बारे में नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने स्थिति साफ की है। यात्री फिजिकल चेक-इन नहीं कर पाएंगे। जो पहले से वेब चेक-इन करके आएंगे, उन्हें ही एयरपोर्ट पर एंट्री मिलेगी।

बैगेज की लिमिट कितनी होगी?

नागरिक उड्डयन मंत्रालय के मुताबिक एक यात्री को सिर्फ एक बैग ले जाने की परमिशन मिलेगी। वेब चेक-इन के वक्त ही ये बात क्लीयर हो जाएगी।

फ्लाइट के टाइम से कितनी देर पहले पहुंचना होगा?

कम से कम 2 घंटे पहले पहुंचना जरूरी होगा। एयरपोर्ट टर्मिनल में उन पैसेंजर को ही एंट्री मिलेगी, जिनकी फ्लाइट अगले 4 घंटे में होगी।

प्रोटेक्शन के लिए क्या जरूरी?

सभी यात्रियों को मास्क और गलव्ज पहनना जरूरी होगा।

आरोग्य सेतु ऐप में ग्रीन स्टेटस नहीं हुआ तो?

14 साल तक के बच्चों को छोड़ सभी को आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करना पड़ेगा। एंट्री गेट पर इसकी जांच की जाएगी। जिनके ऐप में रेड स्टेटस होगा, उन्हें एंट्री नहीं मिलेगी।

किसी के पास आरोग्य सेतु ऐप नहीं हुआ तो?

ऐसे लोगों के लिए एयरपोर्ट पर अलग से काउंटर होगा, वहां जाकर ऐप डाउनलोड कर सकेंगे।

थर्मल स्क्रीनिंग कहां होगी?

एयरपोर्ट टर्मिनल बिल्डिंग में एंट्री से पहले ही एक तय जगह पर स्क्रीनिंग जोन से गुजरना होगा। इसके लिए थर्मल स्क्रीनिंग स्टेशन तैयार किए जा रहे हैं।

गर्भवती महिलाएं, बुजुर्ग यात्रा कर पाएंगे?

उड्डयन मंत्रालय ने मना तो नहीं किया, लेकिन सलाह दी है कि बुजुर्ग, गर्भवती और बीमार लोग अभी हवाई सफर नहीं करें।

एयरपोर्ट तक पहुंचने के लिए क्या इंतजाम होंगे?

एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के मुताबिक राज्य सरकारों और प्रशासन से पब्लिक ट्रांसपोर्ट और प्राइवेट टैक्सी उपलब्ध करवाने के लिए कहा है। ताकि, यात्रियों और एयरपोर्ट स्टाफ को कनेक्टिविटी मिल सके। पर्सनल व्हीकल से भी जा सकेंगे।

एक व्हीकल में कितने लोग बैठ सकेंगे?

एयरपोर्ट अथॉरिटी ने यह साफ नहीं बताया है, सिर्फ इतना कहा है कि तय संख्या में ही लोगों को बैठने की इजाजत होगी। ये नियम एयरपोर्ट स्टाफ और यात्रियों के लिए लागू होगा।

फ्लाइट में खाना मिलेगा?

उड्डयन मंत्रालय ने एयरलाइंस से कहा है कि फ्लाइट में खाना नहीं दिया जाए। यात्री अपना खाना भी नहीं ले जा सकेंगे। पानी की बोतल सीट पर ही मिल जाएगी।

एयरपोर्ट पर खाने-पीने की सुविधा मिलेगी?

संक्रमण से बचाव के उपायों के साथ फूड आउटलेट खुलेंगे। भीड़ नहीं हो, इसके लिए यात्रियों को पार्सल लेने के लिए कहा जाएगा। डिजिटल पेमेंट पर जोर रहेगा। सेल्फ ऑर्डर बूथ बनाए जाएंगे।

एयरपोर्ट पर ट्रॉली मिलेगी?

डिपार्चर और एराइवल एरिया में ट्रॉली नहीं मिलेगी। जिन यात्रियों को वाकई जरूरत होगी, उन्हें मांगने पर ट्रॉली दी जाएगी। सभी ट्रॉली सैनिटाइज की जाएंगी।

लगेज सैनिटाइज किया जाएगा?

टर्मिनल बिल्डिंग में एंट्री से पहले बैगेज को सैनिटाइज किया जाएगा। इसकी जिम्मेदारी एयरपोर्ट ऑपरेटर की होगी। एंट्री गेट, स्क्रीनिंग जोन में सोशल डिस्टेंसिंग के लिए एक-एक मीटर की दूरी पर मार्किंग की जाएगी। जूते-चप्पलों को डिसइन्फेक्ट करने के लिए एंट्रेस पर ब्लीच में भीगे मैट या कार्पेट रखे जाएंगे।

व्हील-चेयर, मैग्जीन की सुविधा मिलेगी?

जरूरतमंदों को पहले से सैनिटाइज की हुई व्हील-चेयर मिलेगी। एयरपोर्ट टर्मिनल बिल्डिंग या लाउंज में न्यूजपेपर या मैग्जीन नहीं मिलेगी।

केबिन क्रू पीपीई किट में होंगे?

उड्डयन मंत्रालय ने एयरलाइंस से कहा है कि केबिन क्रू फुल प्रोटेक्टिव सूट में होने चाहिए।

हवाई यात्रियों के लिए ये 4 बातें जानना भी जरूरी

  1. कितनी उड़ानें शुरू होंगी?

सरकार ने कहा है कि 30% उड़ानों के साथ डोमेस्टिक ऑपरेशन शुरू किए जाएंगे।

2. किन-किन रूट्स पर फ्लाइट शुरू होंगी?

सरकार ने इस बारे में कुछ नहीं कहा है।

3.क्या किराया बढ़ेगा?

सरकार ने एयरलाइन कंपनियों से कहा है कि हवाई किरायों की जो मिनिमम और मैक्सिमम लिमिट तय की गई है, उसमें बदलाव नहीं करें। यानी किराया सामान्य रहने के ही आसार हैं।

4. इंटरनेशनल फ्लाइट कब से शुरू होंगी?

वंदे भारत मिशन के तहत विदेशों में फंसे भारतीयों को लाने के लिए स्पेशल फ्लाइट ऑपरेट हो रही हैं, लेकिन रूटीन कब शुरू होंगी इस बारे में अभी तक कोई जानकारी नहीं दी गई है

Advertisement