जिस घर से नहीं मिलेगा यूजर चार्जिस अब उस घर से नहीं उठेगा कचरा

Advertisement

------------- Advertisement -----------

कुरुक्षेत्र 13 जुलाई, उपायुक्त धीरेन्द्र खडगटा ने कहा कि नगर परिषद और नगर पालिका की सीमा में आने वाले प्रत्येक घर को अब यूजर चार्जिस देना होगा। जिस घर से यूजर चार्जिस नहीं मिलेंगे, उस घर से नगर परिषद और नगर पालिका के कर्मचारी कूड़ा नहीं उठाएंगे। इतना ही नहीं प्रत्येक घर से गीले और सुखे कचरे का अलग-अलग प्रबंधन करना भी सुनिश्चित किया जाएगा। सभी एसडीएम अपने-अपने क्षेत्र में इन नियमों की सख्ती से पालना करवाना सुनिश्चित करेंगे।

वे सोमवार को देर सायं लघु सचिवालय के सभागार में एनजीटी के आदेशों की पालना करवाने और प्रगति रिपोर्ट को समीक्षा को लेकर अधिकारियों की एक बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रत्येक नगर पालिका और नगर परिषद में कर्मचारी प्रत्येक घर से निर्धारित यूजर चार्जिस लेना सुनिश्चित करेंगे और जो घर यूजर चार्जिस नहीं देगा, उस घर के लोगों को सक्षम की टीम एनजीटी के आदेशों की बारीकि से जानकारी देगी, अगर इसके बाद भी यूजर चार्जिस नहीं दिए तो कर्मचारी सम्बन्धित घर से कचरा एकत्रित नहीं करेंगे। 

Advertisement

इस विषय को सभी एसडीएम गम्भीरता से लेंगे, इसके साथ ही एसडीएम अपने-अपने क्षेत्र में एक-एक अधिकारी को मौहल्ले की जिम्मेवारी भी सौपेंगे ताकि प्रत्येक घर से यूजर चार्जिस मिल सके और घर से ही गीले और सुखे कचरे का प्रबंधन भी सुनिश्चित हो सके।

उन्होंने कहा कि टिप्परों में भी गीले और सुखे कचरे के लिए अलग-अलग व्यवस्था होगी, इसके साथ ही बायो मेडिकल वेस्ट के लिए प्रत्येक टिप्पर में एक अलग बाक्स की भी व्यवस्था की जाएगी। इन तमाम गतिविधियों पर नजर रखने और एनजीटी के आदेशों की पालना करवाने के लिए एडीसी की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया गया है, इस कमेटी में नगर परिषद और नगर पालिका के अनुसार सक्षम को भी शामिल किया गया है। 

सक्षम युवा प्रत्येक टिप्पर पर नजर रखेंगे और हर टिप्पर की रिपोर्ट तैयार करेंगे ताकि कमेटी के माध्यम से रोजाना टिप्परों की रिपोर्ट प्रशासन के पास पहुंच सके। इतना ही नहीं नगर परिषद के सचिव केएल बठला को नोडल अधिकारी भी नियुक्त किया गया है, जो रोजाना अपनी रिपोर्ट देना सुनिश्चित करेंगे और व्यवस्था बनाने में अपना सहयोग भी देंगे।

 उपायुक्त ने कहा कि नगर पालिका और नगर परिषद के प्रत्येक पार्क में बर्मी कम्पोस्ट पिट बनाई जाएगी ताकि पेड़-पौधों की सुखे पतों से खाद तैयार की जा सके और इस खाद का प्रयोग पार्कों के लिए ही किया जा सके। इस व्यवस्था के लिए कोई भी अधिकारी और कर्मचारी प्रशिक्षण ग्रहण कर सकता है। इस प्रशिक्षण के लिए निजी कम्पनी के विषय विशेषज्ञों को भी आमंत्रित किया जा सकता है। 

इसके लिए एसडीएम शहरी निकाय की वेबसाईट पर पैनल की एजेंसियों से भी सम्पर्क कर सकते है। उन्होंने कहा कि कुरुक्षेत्र जिले के किसी भी व्यवसायिक क्षेत्र में गंदगी के ढेर नजर नहीं आने चाहिए। इसके लिए एसडीएम इन क्षेत्रों पर पैनी निगाहे रखेंगे और नप और नपा के अधिकारी व्यवसायिक क्षेत्रों की सफाई व्यवस्था पर विशेष ध्यान देंगे। इस मौके पर एडीसी वीना हुड्डा, एसडीएम अश्विनी मलिक, एसडीएम अनिल यादव, एसडीएम सोनू राम आदि अधिकारी उपस्थित थे।

होल सेलरों पर एसडीएम रखेंगे नजर

उपायुक्त धीरेन्द्र खडगटा ने कहा कि नगर पालिका और नगर परिषद के क्षेत्र में पालिथिन और प्लास्टिक के प्रयोग पर प्रतिबंध लगाना सुनिश्चित करेंगे। इसके लिए सबसे पहले एसडीएम अपने-अपने क्षेत्र के पालिथिन होल सेलरों पर शिंकजा कसने का काम करेंगे। इसके अलावा जो भी आदेशों की अवहेलना करेगा, उसके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई और चालान करना सुनिश्चित करेंगे।

Advertisement