किसान नेताओं और सरकार के बीच हुई बैठक का नतीजा, 8 जनवरी को….

नई दिल्ली। नए कृषि कानूनों को लेकर किसानों और सरकार के बीच सोमवार को चल रही बैठक खत्म हुई। अब अगले दौर की बातचीत 8 जनवरी को होगी। यह बातचीत दोपहर 2 बजे होगी। हालांकि 4 जनवरी की बैठक में भी कोई फैसला नहीं हो पाया है। इस बैठक में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के अलावा   पीयूष गोयल और सोम प्रकाश के साथ-साथ सरकारी अधिकारी और किसानों के प्रतिनिधि शामिल हुए। बैठक शुरू होने से पहले मृत किसानों के सम्मान में दो मिनट का मौन भी रखा गया।

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बैठक के बाद कहा ‘भारत सरकार के 2 नए कानूनों और एक संशोधन पर चर्चा हुई। हम क्लॉज के अनुसार चर्चा चाहते थे, इसपर बातचीत चलती रही। थोड़ी बहुत एमएसपी पर भी बात हुई। आज किसी निर्णय पर हम नहीं पहुंच सके हैं। इसलिए 8 जनवरी को फिर बातचीत पर किसान संगठनों और सरकार के बीच रजामंदी हुई।’

नरेंद्र सिंह तोमर ने आगे कहा ‘किसानों के कानून वापस लेने पर अड़े रहने की वजह से कोई रास्ता नहीं निकल पाया। हमें उम्मीद है कि अगली बैठक में सार्थक चर्चा होगी और हम समाधान तक पहुंच पाएंगे। किसानों को सरकार पर भरोसा है और सरकार के मन में किसानों के प्रति सम्मान और संवेदना है।’

उधर, किसान नेता राकेश टिकैत ने बैठक के बाद मीडिया को जानकारी देते हुए कहा, ‘8 जनवरी को सरकार के साथ फिर से मुलाकात होगी। तीनों कृषि क़ानूनों को वापस लेने पर और MSP दोनों मुद्दों पर 8 तारीख को फिर से बात होगी। हमने बता दिया है कि कानून वापसी नहीं तो घर वापसी भी नहीं होगी’

बता दें विज्ञान भवन में किसानों और सरकार के बीच बातचीत हुई। यहां पर आंदोलन कर रहे कई किसान संगठनों के नेता मौजूद रहे। लंच ब्रेक के बाद दोबारा बातचीत शुरू हुई थी। किसान नेताओं ने केंद्रीय मंत्री सोम प्रकाश से विज्ञान भवन में मुलाकात की और अपनी मांगें बताई हैं। केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, पीयूष गोयल और सोम प्रकाश के साथ-साथ सरकारी अधिकारियों और किसानों के प्रतिनिधियों ने उन किसानों के लिए दो मिनट का मौन रखा जिन्होंने मौजूदा किसान आंदोलन के दौरान अपनी जान गंवा दी।

Advertisement