लाइव स्ट्रीमिंग कर सुसाइड कर रहा था शख्स, फेसबुक ने ऐसे बचाई जान

यूरोप के आयरलैंड देश से लेकर भारत के मुंबई और फिर धुले तक की गई कोशिशों ने एक युवक की जान बचा ली. इस युवक का खुदकुशी को फेसबुक पर लाइव स्ट्रीमि‍ंंग करने का इरादा था.

लाइव स्ट्रीमिंग के साथ सुसाइड कर रहा था शख्स, फेसबुक हेडक्वार्टर के अलर्ट करने पर 50 मिनट में बची जान

आयरलैंड में फेसबुक के हेडक्वार्टर ने मुंबई पुलिस को सूचना दी कि 23 वर्षीय ज्ञानेश्वर पाटिल खुदकुशी करने जा रहा है और साथ ही फेसबुक पर लाइव स्ट्रीमिंग कर रहा है. ये सूचना मिलने के 50 मिनट में ही पुलिस की टीम पाटिल के घर पहुंच गई और उसे बचा लिया. पाटिल को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां वो अब सुरक्षित है और स्वास्थ्य लाभ कर रहा है.

लाइव स्ट्रीमिंग के साथ सुसाइड कर रहा था शख्स, फेसबुक हेडक्वार्टर के अलर्ट करने पर 50 मिनट में बची जान

रविवार रात 8.10 बजे मुंबई साइबर पुलिस डीसीपी रश्मि करांदिकर को आयरलैंड स्थित फेसबुक मुख्यालय से कॉल मिली कि एक युवक खुदकुशी करने जा रहा है और उसकी फेसबुक पर स्ट्रीमिंग कर रहा है. फेसबुक हेडक्वार्टर ने स्क्रीनशॉट भी शेयर किया. पाटिल बुरी तरह रो रहा था और उसने गले पर रेजर रखा हुआ था.

लाइव स्ट्रीमिंग के साथ सुसाइड कर रहा था शख्स, फेसबुक हेडक्वार्टर के अलर्ट करने पर 50 मिनट में बची जान

मुंबई साइबर पुलिस अधिकारियों ने इस मामले को बहुत गंभीरता से लिया और युवक की लोकेशन तलाशना शुरू कर दिया. पूरी साइबर टीम पाटिल के बारे में जानकारी हासिल करने में जुट गई. 20 मिनट में ही टीम को पाटिल की पिन-पाइंट लोकेशन मिल गई.

डीसीपी रश्मि करांदिकर ने कहा कि पिन पाइंट लोकेशन बहुत अहम और मुश्किल काम था. 10 मिनट में ही हमें ये लोकेशन मिल गई. हमारे पास धुले की बिल्डिंग और युवक का नाम था. हमने तत्काल रात 8.30 बजे धुले के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को सूचित किया.

लाइव स्ट्रीमिंग के साथ सुसाइड कर रहा था शख्स, फेसबुक हेडक्वार्टर के अलर्ट करने पर 50 मिनट में बची जान

रात 9 बजे धुले के अधिकारी पाटिल के घर पहुंच गए और उसे बचा लिया. उस वक्त पाटिल की गर्दन से खून निकल रहा था, उसे तत्काल अस्पताल ले जाकर बचाया गया जहां अब उसकी हालत खतरे से बाहर है.

लाइव स्ट्रीमिंग के साथ सुसाइड कर रहा था शख्स, फेसबुक हेडक्वार्टर के अलर्ट करने पर 50 मिनट में बची जान

एक अधिकारी ने कहा कि ये सब वक्त के खिलाफ दौड़ने जैसा था. उसने अपना गला, रेजर से रेतना शुरू कर दिया था. इसलिए हमें उस तक जल्द से जल्द पहुंचना था. फेसबुक के पास ऐसे केसों पर काम करने के लिए बेस्ट टीम है. उन्होंने एल्गोरिदम में जैसे ही इसे देखा, तत्काल मुंबई पुलिस को सूचित किया.

Advertisement