चिंतकों की बैठक में उठा मुद्दा, कहा देशवासियों को बरगला रहा विपक्ष !

इंडिया ब्रेकिंग /करनाल रिपोर्टर(ब्यूरो) (नागरिका संशोधन कानून) को लेकर सेक्टर-12 स्थित गोल्डन मूमेंट में अहम बैठक का आयोजन किया गया। शहर के बुद्धिजीवी वर्ग ने चिंतन बैठक में विचार रखे। सामाजिक, धार्मिक, व्यापारिक व औद्योगिक संगठनों ने एकमत होकर सीएए का समर्थन किया। गौरतलब है कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ देश में राजनीतिक प्रदर्शनों के बीच देश के प्रतिष्ठित संस्थानों से जुड़े प्रोफेसरों, शोधार्थियों, वैज्ञानिकों, चिकित्सकों, व्यापारियों एवं विधिवेत्ताओं समेत हर वर्ग से जुड़े बुद्धिजीवियों ने इस कानून का समर्थन किया।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सहप्रांत प्रचारक सुरेंद्र कुमार ने कहा कि सीएए नागरिकता छीनने का नहीं, नागरिकता देने का कानून है। कुछ लोग समाज को तोड़ने की मंशा से लोगों को बरगला रहे हैं, हमें उनसे बचना होगा। सरकार द्वारा लाया गया नया नागरिकता कानून देश की सदियों पुरानी ‘शरणागत वत्सल’ होने की परंपरा का प्रतिनिधित्व करता है, जिसमें हम सदा से ही पीडि़त समाज को शरण देते आए हैं।

यह कानून पाकिस्तान अफगानिस्तान एवं बंगलादेश से धार्मिक आधार पर प्रताडि़त होकर देश में आये लोगों को शरण एवं नागरिकता देने की की बहुत पुरानी मांग को पूरा करता है। 1950 के लियाक़त नेहरू समझौते की विफलता के बाद से कांग्रेस एवं माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) समेत विभिन्न विचारधाराओं वाले तकरीबन सभी दल पाकिस्तान एवं बंगलादेश के धार्मिक अल्पसंख्यकों को भारत में शरण एवं नागरिकता देने की मांग उठाते रहे हैं जिनमें अधिकांश दलित हैं। बयान में कहा गया है कि हम भारत की संसद एवं सरकार का, धार्मिक उत्पीडऩ के शिकार लोगों को अभयदान एवं शरण देने के भारत के सभ्यतागत मूल्यों को बनाये रखते हुए, इन देशों के अल्पसंख्यकों के साथ खड़े होने के लिए समर्थन करते हैं और बधाई देते हैं। उन्होंने कहा कि नागरिकता कानून देश की सदियों पुरानी ‘शरणागत वत्सल’होने की परंपरा का प्रतिनिधित्व करता है जिसमें हम सदा से ही पीडि़त समाज को शरण देते आए हैं।

 

उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून भारत के सेकुलर संविधान के अनुरूप है और उससे धार्मिक आधार पर किसी की भारतीय नागरिकता प्रभावित नहीं होती है। कार्यक्रम का संचालन कपिल अत्रेजा ने किया। इस अवसर पर डॉक्टर बीके ठाकुर , रूप नारायण चानना, श्याम बत्रा, प्रियंका काठपाल, विनीत खेड़ा, पंकज, गुरुप्रसाद,  केहर सिंह चोपड़ा, दिलबाग कादियान ने भी विचार रखे। इस मौके पर आकाश भट्ट, राजीव मल्होत्रा, एसपी चौहान, पार्षद मेघा भंडारी, पार्षद रजनी प्रोचा मुख्य रूप से उपस्थित रहे !

Advertisement