करनाल में गरीब परिवारों तक राहत सामग्री की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए प्रशासन ने उठाया ये कदम

इंडिया ब्रेकिंग / करनाल रिपोर्टर (ब्यूरो) : हरियाणा सरकार के निर्देशानुसार कोरोना जैसी महामारी के चलते लॉकडाउन के दौरान गरीब व जरूरतमंद परिवारों तक ज्यादा से ज्यादा मदद पहंचे, विशेषत:  बीपीएल परिवारों, पंजीकृत कामगारों, गैर संगठित क्षेत्र में कार्य कर रहे मजदूरों को राशन व फूड पैकेट मिले तथा रोगी को दवाई मिले, वृद्धजनों की देखभाल हो और मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना के तहत पंजीकृत गरीब परिवारों को वित्तीय सहायता राशि उपलब्ध हो। इसको लेकर जिला प्रशासन द्वारा एक एक्शन प्लान बनाकर 4 तरह की कमेटियों का गठन किया गया है।  इनमें युनिट कमेटी, सुपरवाईजरी कमेटी, जोनल कमेटी तथा जिला स्तरीय कमेटी शामिल है। युनिट कमेटी की सर्वे रिर्पोट ऑन लाईन सरकार के पास भेजी जाएगी ताकि जरूरतमंद लोगों की ओर सहायता की जा सकें।

यह जानकारी उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने  बुधवार को स्थानीय लघु सचिवालय के सभागार में आयोजित इस कार्य से सम्बन्धित अधिकारियों व कर्मचारियों की बैठक में दी। उन्होंने बताया कि जिला में इस एक्शन प्लान को प्रभावशाली तरीके से लागू करने लिए करीब एक हजार युनिट कमेटियों का गठन किया गया है। जोकि अगले 24 घंटे में जिला के हर घर तक पहुंचेगी और जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए आवश्यक डाटा जुटाएगी तथा जिला को 13 जोन में बांटा गया है, इसके अलाव 105 सैक्टर कमेटी बनाई गई है। जोनल स्तर की कमेटियों के साथ-साथ मॉनीटरिंग के लिए जिला स्तर की कमेटी भी बनाई गई है। इस कमेटी के अध्यक्ष उपायुक्त करनाल तथा  पुलिस अधीक्षक करनाल, अतिरिक्त उपायुक्त करनाल, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, महिला एवं बाल विकास विभाग की कार्यक्रम अधिकारी तथा चुनाव तहसीलदार करनाल इसके सदस्य है।

उपायुक्त ने बताया कि युनिट कमेटी में आशा वर्कर, आंगनवाडी वर्कर तथा चुनाव कार्यालय से जुडे बीएलओ सम्बन्धित क्षेत्र में लगभग 300 परिवारों का सर्वे करेगें। इस कार्य के लिए 999 युनिट कमेटियों का गठन किया गया है जो पूरे जिला से आवश्यक डाटा निर्धारित प्रोफोर्मा में भरकर सैक्टर कमेटी को सौपेंगी। ये युनिट कमेटियां राशन सामग्री तथा तैयार खाने की आवश्यकता वाले परिवारों को चिन्हित, डिपो होल्डर से राशन ना मिलने वाले बीपीएल परिवारों का विवरण, सभी प्रकार की सामाजिक सुरक्षा पेंशन प्राप्त ना करने वाले पात्र व्यक्तियों का विवरण, रसोई गैस व अन्य जरूरी सेवाओं की डिलिवरी ना होने का विवरण तथा कोरोना से सम्बन्धित लक्ष्णों की जांच सम्बन्धित क्षेत्र में घर पर जाकर ही करेगी। इनमें से 873 युनिट कमेटिया ग्रामीण क्षेत्र में तथा 126 शहरी क्षेत्र में कार्य करेगी। इसके अतिरिक्त  सम्बन्धित सैक्टर कमेटी  इन युनिट कमेटियों पर निगरानी का कार्य करेगी। इन सेक्टर कमेटियों में पटवारी, ग्राम सचिव, महिला एवं बाल विकास विभाग की सुपरवाईजर तथा सब-हैल्थ सेंटर के मुखिया सदस्य होगें। इसी प्रकार जोन कमेटी में सीडीपीओ, एसएमओ और चुनाव कानूनगो सदस्य है इसके अलावा सम्बन्धित बीडीपीओ व सचिव नगर पालिका शामिल रहेगे।

उपायुक्त ने बताया कि इस कार्य के लिए जिला करनाल को कुल 13 जोन में बांटा गया है। जोन एक में नगरनिगम क्षेत्र करनाल, जोन 2 में करनाल ब्लॉक का ग्रामीण क्षेत्र, जोन 3 में नगरपालिका क्षेत्र असंध के सभी वार्ड, जोन 4 में असंध ब्लॉक के सभी गांव, जोन 5 में घरौंडा नगरपालिका के सभी वार्ड, जोन 6 में घरौंडा ब्लॉक के सभी गांव, जोन 7 में नगरपालिका क्षेत्र नीलोखेडी के सभी वार्ड, जोन 8 में नीलोखेडी ब्लॉक के सभी गांव,  जोन 9 में नगरपालिका क्षेत्र तरावडी के सभी वार्ड, जोन 10 में निसिंग नगरपालिका के सभी वार्ड, जोन 11 निसिंग ब्लॉक के सभी गांव, जोन 12 में इन्द्री नगर पालिका के सभी वार्ड तथा जोन 13 में इन्द्री ब्लाक के सभी गांव शामिल है।

इस मौके पर करनाल के एसडीएम नरेन्द्र पाल मलिक, इन्द्री के एसडीएम सुमित सिहाग, सभी बीडीपीओ व सचिव नगर पालिका उपस्थित रहे।

Advertisement