हरियाणा के सरकारी नौकरी के लिए परीक्षा दे रहे युवाओं के लिए खुशखबरी, जानिए

चंडीगढ़। हरियाणा सरकार ने आदेश दिया है कि  सरकारी पदों पर भर्ती की रफ्तार तेज होगी और लंबित रिजल्ट जल्द से जल्द घोषित होंगे। हरियाणा सरकार अगले चार सालों में करीब एक लाख सरकारी नौकरियां देने का लक्ष्य लेकर चल रही है और उन्होंने सभी विभागों को खाली पदों का ब्योरा तैयार रखने के निर्देश दिए हैं। हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग और हरियाणा लोक सेवा आयोग के माध्यम से यह भर्तियां होंगी। हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की ओर से अभी तक 76 हजार 897 भर्तियां की जा चुकी हैं, जबकि 30 हजार भर्तियों की प्रक्रिया पाइप लाइन में है।

इन 30 हजार भर्तियों में 24 हजार भर्तियां ऐसी हैं, जिनकी अभी परीक्षा होनी है। कोरोना की वजह से इन भर्तियों की प्रक्रिया बीच में ही थम गई थी। हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग कोरोना काबू में होते ही इन भर्तियों की प्रक्रिया तेज गति के साथ आरंभ करने की तैयारी कर रहा है। करीब पांच हजार भर्तियां ऐसी हैं, जिनके अभी तक रिजल्ट घोषित नहीं हो पाए हैं। रिजल्ट के इंतजार में अभ्यर्थी न केवल परेशान हैं, बल्कि आयोग तक उनकी सीधी पहुंच नहीं होने के कारण वे कभी किसी मंत्री के दरवाजे पर तो कभी किसी सांसद या विधायक के दरवाजे पर पहुंचकर जल्दी रिजल्ट घोषित कराने का दबाव बना रहे हैं।

कर्मचारी चयन आयोग के पास 1508 भर्तियों का रिजल्ट तैयार है, जो किसी भी समय घोषित किया जा सकता है। 2388 भर्तियां ऐसी हैं, जिनकी लिखित परीक्षा हो चुकी, मगर उसका रिजल्ट अभी बाकी है, जबकि 1068 भर्तियों की स्क्रूटनी पेंडिंग है। 2388 भर्तियों में इसी साल जनवरी से लंबित भर्तियों भी शामिल हैं। इनमें पीजीटी, होम साइंस तथा बिजली विभाग के जूनियर सिस्टम एनालाइसिस की भर्तियां होनी हैं। करीब चार हजार भर्तियां कोर्ट में अटकी हुई हैं।


हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के चेयरमैन भारत भूषण भारती के अनुसार हमारी कोशिश सभी लंबित भर्तियों के रिजल्ट 31 दिसंबर से पहले घोषित करने की है। यह भी संभव है कि कुछ भर्तियों के रिजल्ट घोषित करने की प्रक्रिया सोमवार से शुरू कर दी जाए। इसमें बिजली विभाग की लंबित भर्ती भी शामिल है। भारती के अनुसार कोर्ट में लंबित चार हजार भर्तियों की पैरवी भी हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग पूरी जिम्मेदारी के साथ करेगा तथा आयोग की कोशिश होगी कि कोर्ट में किसी भी भर्ती पर प्रश्नचिन्ह न लग पाए। इसके लिए विशेषज्ञ कानूनविदों का सहयोग लिया जा रहा है।

चेयरमैन के मुताबिक करीब 24 हजार भर्तियां ऐसी हैं, जिनकी प्रक्रिया शुरू की जानी है। यह भर्तियां पाइप लाइन में हैं। इनकी परीक्षाएं होनी हैं। आयोग की शुरू से ही पूरी तैयारी थी, लेकिन कोविड-19 की वजह से सारी तैयारी बाधित हो गई है। बिना पूरे सिस्टम के इन परीक्षाओं का आयोजन नहीं किया जा सकता। लाखों बच्चों को यह परीक्षा देनी होती है। कोविड में यातायात के साधनों का इंतजाम नहीं था। स्कूल कालेज बंद हैं। ड्यूटी देने की व्यवस्था नहीं है, लेकिन अब कोविड का असर कम हो रहा है। स्थितियां सामान्य होती जा रही हैं, इसलिए आयोग इन भर्तियों के लिए परीक्षाओं के आयोजन के बारे में गंभीरता से विचार विमर्श कर तैयारी कर रहा है।

भारत भूषण भारती ने कहा कि किसी भी अभ्यर्थी को निराश होने की जरूरत नहीं है और 31 दिसंबर से पहले-पहले सभी लंबित रिजल्ट घोषित कर दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि हरियाणा सरकार जब भी नई भर्तियां करेगी तो इसके लिए विभागों की ओर से आयोग के पास अनुरोध पत्र आएंगे, जिसके आधार पर नई भर्ती की प्रक्रिया शुरू हो सकेगी।

Advertisement