करीब 6 महीने बाद खुला ताजमहल, बदल गया दीदार का तरीका, पहले की तरह नहीं मिल रही है एंट्री

करीब छह महीने बाद आगरा का ताजमहल और किला पर्यटकों के स्वागत के लिए तैयार है. लॉकडाउन 4.0 के तहत 21 सिंतबर को इनके दरवाजे खोल दिए गए हैं. सरकार के इस फैसले से जहां एक तरफ निराशा में डूबे पर्यटन कारोबारियों के चेहरे पर रौनक लौटी है, वहीं सैलानियों के मन में सवाल है कि इनका दीदार करना पहले से कितना अलग होगा.

बता दें, कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते दोनों स्मारक 17 मार्च को बंद किए गए थे. अब चूंकि, कोरोना अभी भी हमारे बीच में है. इसलिए भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा जारी स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर के तहत ही लोगों को ताजमहल और किला के अंदर एंट्री मिल सकेगी.

किन-किन नियमों का पालना अनिवार्य है?

दोनों स्मारकों के दीदार के वक्त सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य है. इसके लिए प्रशासन द्वारा खास इंतजाम भी किए जा रहे हैं. वहीं बिना मास्क के किसी भी सैलानी को एंट्री न देने का नियम बनाया गया है. एंट्री से पहले पर्यटकों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी. बिना लक्षण वाले ही प्रवेश पा सकेंगे.

वहीं ताजमहल में मुख्य मकबरे में एक बार में पांच सैलानियों को ही प्रवेश दिया जा रहा है. सबसे अहम यह कि पहले की तरह पर्यटक अब विंडो से स्मारक देखने की टिकट नहीं ले सकेंगे. स्मारकों पर सभी टिकट विंडो बंद हैं. ऑनलाइन टिकट वालों को ही एंट्री दी जा रही है.

पर्यटक कहां से बुक कर सकते हैं टिकट?

टिकट बुक करने के लिए एएसआइ के आगरा सर्किल की वेबसाइट www.asiagracircle.nic.in या www.asipayumoney.com पर विजिट किया जा सकता है. वहां ऑनलाइन टिकट बुक की जा सकती है. बता दें, ताजमहल में एक दिन में अधिकतम पांच हजार और किला में ढाई हजार पर्यटकों को ही प्रवेश मिलेगा.

Advertisement