SYL नहर के मसले पर फिर भिड़े तीन राज्यों के मुख्यमंत्री, जानें पानी पर राजनीति को लेकर तीनों की प्रतिक्रिया

चंडीगढ़| SYL नहर निर्माण के मुद्दे पर हरियाणा, पंजाब और दिल्ली की सरकार फिर से आमने- सामने खड़ी हो गई है. इस मसले पर सीएम मनोहर लाल का पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से टकराव बढ़ गया है. केन्द्र सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट में पंजाब सरकार के नकारात्मक रुख की जानकारी देने के बाद दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने इस मसले के समाधान के लिए प्रधानमंत्री को सुझाव देने की पेशकश की है.

आम आदमी पार्टी करें अपना स्टैंड क्लियर

बता दें कि पंजाब और दिल्ली दोनों राज्यों में आम आदमी पार्टी की सरकार है. वीरवार को मनोहर लाल ने दोनों सरकारों पर निशाना साधते हुए कहा कि आम आदमी पार्टी हरियाणा के हिस्से के पानी को लेकर अपना स्टैंड क्लियर करें. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने फैसला हरियाणा के पक्ष में सुनाया है और पंजाब व दिल्ली सरकार के तमाम विरोधों के बाबजूद हरियाणा अपने हिस्से का पानी लेकर रहेगा.

हरियाणा के साथ बैठने में नहीं है आपत्ति

वहीं एसवाईएल निर्माण के मसलें पर पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने कहा कि हरियाणा पंजाब का छोटा भाई है और हमें उनके साथ बैठने में कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन इस बात में पूरी सच्चाई है कि पंजाब के पास हरियाणा को देने के लिए अतिरिक्त पानी नहीं है. वो चाहते हैं कि केंद्र सरकार पंजाब व हरियाणा दोनों की पानी की समस्या का समाधान निकालें.

भाजपा व कांग्रेस दाेनोंं राज्यों में एसवाईएल पर स्टैं ड साफ करें

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने यह कहकर नई बहस छेड़ दी है कि बीजेपी व कांग्रेस दोनों राज्यों पंजाब व हरियाणा में एसवाईएल निर्माण पर अपनी- अपनी पार्टी का स्टैंड स्पष्ट करें. केजरीवाल ने कहा कि पंजाब में पानी की कमी है, लेकिन इस बात में भी सच्चाई है कि हरियाणा में भी पानी की कमी है. इसलिए केन्द्र सरकार का दायित्व बनता है कि वह इस मसले का हल करें. केजरीवाल ने यहां तक कहा कि यदि पीएम मोदी उन्हें चाय पर बुलाएं तो वह उन्हें इस मसले का समाधान सुझा सकते हैं.

पंजाब की भाषा न बोलें केजरीवाल

वहीं कांग्रेस के राज्यसभा सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा कि वो हरियाणा में आकर पंजाब की भाषा न बोलें. हुड्डा ने कहा कि पंजाब चुनाव में एसवाईएल निर्माण के खिलाफ बयान देने वाले केजरीवाल को अपना स्टैंड क्लियर करना होगा. साथ ही उन्होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हुए पंजाब की आम आदमी पार्टी सरकार पर एसवाईएल निर्माण को लेकर दबाव बनाना चाहिए. उन्होंने कहा कि केजरीवाल जो फार्मूला प्रधानमंत्री को बताना चाहते हैं, उसे भी सार्वजनिक करें.

हमें अपने हिस्से का पानी मिलेगा या नहीं

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल ने पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान पर सीधा सवाल दागते हुए कहा कि एसवाईएल निर्माण पर वह अपना स्टैंड क्लियर करें और बताएं कि हरियाणा को उसके हिस्से का पानी मिलना चाहिए या नहीं. उन्होंने कहा कि इस मसले पर आम आदमी पार्टी दोहरी राय रख रही है. मनोहर लाल ने कहा कि यदि पंजाब सरकार चाहेगी तो एसवाईएल नहर का निर्माण होगा और उन्हें सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर अमल करना चाहिए.

Advertisement