सुरजेवाला ने सरकार के कदमों पर उठाए ये सवाल

चंडीगढ़ : कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सिंह सुर्जेवाला ने कोरोना के खिलाफ सरकार के कदमों पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि 13,238 विदेश से आए लोगों में से 12,573 का कोरोना टैस्ट क्यों नहीं करवाया गया? सिर्फ 665 सैंपल ही लिए गए, इसके अलावा उनके परिवार जनों और संपर्क में आए 346 लोगों का टैस्ट क्यों नहीं करवाया गया?

सुरजेवाला का कहना कि हरियाणा में अब तक कोरोना टैस्ट की व्यवस्था दो जगह है – रोहतक मैडीकल कालेज और खानपुर मैडीकल कालेज। रोहतक मैडीकल कालेज में 34 से ज्यादा टैस्ट प्रतिदिन हो नहीं सकते। दोनों जगह मिलकर 100 से अधिक टैस्ट नहीं हो सकते। रोहतक मैडीकल कालेज ने कल ही नई लैबोरेटरी बनाने के लिए सरकार को मशीनें खरीदने का प्रस्ताव भेजा है। सवाल यह है कि कोरोना वायरस का टैस्ट ही नहीं हो पाएगा, तो रोकथाम और उपचार कैसे होगा? पूरे 21 दिन का लॉकडाऊन है, तो दूर जिलों के लोग टैस्ट कैसे करवाएं? उन्होंने कहा कि कड़वा सच यह है कि अब तक हरियाणा के डाक्टरों, नर्सेस और स्वास्थ्य कर्मियों के पास जरूरी मात्रा में न हैलमेट सूट्स हैं, न एन-95 मास्क, न गॉगल, न हैड कवर व शू कवर, न ग्लव्स, न टू-लेयर बॉडी ओवरआल। यहां तक कि संक्रमित या संदिग्ध मरीजों के लिए ‘डिस्पोजेबल शीट्स’ भी नहीं हैं।

20,000 कर्मचारियों को 3 माह से नहीं मिला वेतन: सुर्जेवाला ने कहा कि डाक्टर, नर्सेस और स्वास्थ्यकर्मियों को तीन माह के लिए वेतन दोगुनी करने का विशेष फाइनैंशल पैकेज दिया जाए। उन्होंने कहा कि 20,000 कर्मचारियों को तीन माह से वेतन नहीं मिला। इनमें लगभग 10,000 ग्रामीण सफाई कर्मचारी हैं, इसी प्रकार लगभग 10,000 स्वास्थ्य व अन्य विभागों के ठेका कर्मचारी हैं।

Advertisement