शाहीन बाग प्रोटेस्ट करने वालो को सुप्रीम कोर्ट ने दिया बड़ा झटका कहा-राइट टु प्रोटेस्ट का यह मतलब नहीं कि…

नागरिक संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग में हुए प्रदर्शन को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने अपने पुराने फैसले पर पुनर्विचार करने से इंकार कर दिया।

Image result for शाहीन बाग प्रोटेस्ट करने वालो को सुप्रीम कोर्ट ने दिया बड़ा झटका कहा-राइट टु प्रोटेस्ट का यह मतलब नहीं कि...

शनिवार को याचिका खारिज करते हुए जस्टिस संजय किशन कौल, जस्टिस अनिरुद्ध बोस और जस्टिस कृष्ण मुरारी ने कहा कि विरोध का अधिकार, कभी भी और कहीं भी नहीं हो सकता।

Image result for शाहीन बाग प्रोटेस्ट करने वालो को सुप्रीम कोर्ट ने दिया बड़ा झटका कहा-राइट टु प्रोटेस्ट का यह मतलब नहीं कि...

कोर्ट ने कहा कि राइट टु प्रोटेस्ट का यह मतलब यह नहीं कि जब और जहां मन हुआ, प्रदर्शन करने बैठ जाएं। कुछ सहज विरोध हो सकता है, लेकिन लंबे समय तक असंतोष या विरोध के मामले में दूसरों के अधिकारों को प्रभावित करने वाले सार्वजनिक स्थान पर लगातार कब्जा नहीं किया जा सकता।

याचिका में क्या कहा गया था?

अक्टूबर 2020 में शाहीन बाग आंदोलन को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर नवंबर 2020 से पुनर्विचार याचिका लंबित थी।

ऐसे में एक और अर्जी लगाकर याचिकाकर्ताओं ने कहा कि चूंकि किसान आंदोलन के खिलाफ लगाई गई अर्जी और हमारी याचिका एक जैसी है, ऐसे में सार्वजनिक स्थानों पर विरोध करने के अधिकार की वैधता और सीमा पर कोर्ट के विचार अलग-अलग नहीं हो सकते।

Image result for शाहीन बाग प्रोटेस्ट करने वालो को सुप्रीम कोर्ट ने दिया बड़ा झटका कहा-राइट टु प्रोटेस्ट का यह मतलब नहीं कि...

कोर्ट को इस पर विचार करना चाहिए। शाहीन बाग मामले में अदालत की ओर से की गई टिप्पणी नागरिकों के आंदोलन करने के अधिकार पर संशय पैदा करती है।

शाहीन बाग में दिसंबर 19 से मार्च 20 तक प्रदर्शन चला था

दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ 14 दिसंबर 2019 से प्रदर्शन शुरू हुआ था, जो 3 महीने से ज्यादा चला।

सुप्रीम कोर्ट ने 17 फरवरी को सीनियर वकील संजय हेगडे और साधना रामचंद्रन को जिम्मेदारी दी कि प्रदर्शनकारियों से बात कर कोई समाधान निकालें, लेकिन कई राउंड की चर्चा के बाद भी बात नहीं बन पाई थी। बाद में कोरोना के चलते लॉकडाउन होने पर 24 मार्च को प्रदर्शन बंद हो पाया था।

Image result for शाहीन बाग प्रोटेस्ट करने वालो को सुप्रीम कोर्ट ने दिया बड़ा झटका कहा-राइट टु प्रोटेस्ट का यह मतलब नहीं कि...

अक्टूबर 2020 में कोर्ट के फैसले की 4 बड़ी बातें

विरोध-प्रदर्शन के लिए शाहीन बाग जैसी सार्वजनिक जगहों का घेराव बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।

लोकतंत्र और असहमति साथ-साथ चल सकते हैं।

शाहीन बाग को खाली करवाने के लिए दिल्ली पुलिस को कार्रवाई करनी चाहिए थी।

ऐसे मामलों में अफसरों को खुद एक्शन लेना चाहिए। वे अदालतों के पीछे नहीं छिप सकते, कि जब कोई आदेश आएगा तभी कार्रवाई करेंगे।

Advertisement