विदेशों में पढ़ने की चाह रखने वाले छात्रों को नहीं होगी पैसे की कमी, सरकार करेगी मदद

Advertisement

------------- Advertisement -----------

पंचकूला : हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने कहा कि सरकार के प्रयासों से प्रदेश के सरकारी स्कूलों में शिक्षा के स्तर में काफी सुधार हुआ है और विशेषकर ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों का परीक्षा परिणाम का ग्राफ 65 प्रतिशत से अधिक हो गया है। यह विद्यार्थियों एवं अभिभावकों का उत्साहवर्धन करने वाला है। हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड दसवीं की परीक्षा में जिला में अव्वल रहने वाले तीन छात्रों को घर घर जाकर बधाईयां दी। उन्होंने खड़क मंगौली के शुभम, पंचकूला सैक्टर 16 की मनीषा व बरवाला की शुभा को उनके घर जाकर मिठाई खिलाकर बधाई दी।

उन्होंने कहा कि शिक्षा में गरीबी कभी बाधा नहीं बनेगी। इसके लिए अव्वल रहने वाले विद्यार्थियों को किताबें आदि लेखन सामग्री की आवश्यकता होगी तो उनकी एक लाख रुपए तक की मदद करने के लिए तत्पर रहेंगे। उन्होंने कहा कि यदि कोई विद्यार्थी बाहर भी शिक्षा ग्रहण चाहेगा तो भी वे इसके लिए तैयार हैं, शिक्षा हेतु ऐसे विद्यार्थियों के लिए उन्हें धन की कमी नहीं रहने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि खड़क मंगौली का गरीब छात्र पंचकूला जिले में अव्वल रहा है। यह जिलावासियों के लिए गौरव की बात है। इस छात्र ने अभिभावकों के साथ पूरे जिले का नाम रोशन किया है।

Advertisement

उन्होंने कहा कि बच्चों में अपार प्रतिभा छिपी हुई। विद्यार्थियों को सही प्लेटफार्म एवं माहौल प्रदान कर निखारा जा सकता है। प्रदेश के सरकारी स्कूलों में अब बहुत ही अच्छा माहौल विद्यार्थियों को मिल रहा है। इसलिए प्रदेश के विद्यार्थी शिक्षा के क्षेत्र के साथ अन्य प्रतिस्र्पधाओं में भी आगे आ रहे हैं।

गुप्ता ने बरवाला की छात्रा से बातचीत करते हुए कहा कि यदि विद्यार्थी लक्ष्य बनाकर शिक्षा ग्रहण करें तो अवश्य की मुकाम हासिल कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि बेंटियां आज किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं है। सरकार ने बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ अभियान चलाकर उनके लिए ओर अधिक अवसर प्रदान किए हैं, इसलिए ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यार्थी भी शिक्षा में वर्चस्व हासिल कर रहे हैं।

सुभा की माता सुदेश कुमारी का कहना है उनकी दो बेटियां हैं। दोनों ही पढ़ाई में अव्वल हैं, बेटियों ने उन्हें कभी बेटे की कमी महसूस नहीं होने दी और आज उनकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं है। जिसने पूरे जिले में दूसरा स्थान हासिल कर उनका गौरव बढ़ाया है। सुभा का कहना है कि वह आईएएस की परीक्षा करके समाज सेवा करना चाहती हैं, इसके लिए वह निरन्तर अग्रणी रहने का प्रयास करेगी।

Advertisement