विद्यार्थी हो जाएं तैयार, हरियाणा में यूनिवर्सिटी-कॉलेजों में इसी माह परीक्षाएं, दाखिले का शेड्यूल भी जारी

चंडीगढ़ । हरियाणा के विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के विद्यार्थी तैयार हो जाएं। राज्‍य में स्नातक और स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष की परीक्षाएं होंगी। ये परीक्षाएं सितंबर के अंत तक होंगी और अक्‍टूबर के दूसरे पखवाड़े में रिजल्ट भी घोषित कर दिए जाएंगे। जो विद्यार्थी सही कारणों की वजह से परीक्षा नहीं दे सकेंगे, उन्हें  इसका एक मौका और दिया जाएगा। इसके साथ ही राज्‍य में दाखिलों के लिए भी शेड्यूल जारी कर दिया गया है।

स्नातक और स्नातकोत्तर के अंतिम वर्ष के दो लाख से अधिक विद्यार्थी देंगे परीक्षा

उच्च शिक्षा परिषद के अध्यक्ष प्रो. बृज किशोर कुठियाला की अगुवाई में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये हुई बैठक में सभी विश्वविद्यालयों के कुलपति और परीक्षा नियंत्रक शामिल हुए। इस दौरान उच्चतर शिक्षा के प्रधान महासचिव अंकुर गुप्ता और उच्चतर शिक्षा व तकनीकी शिक्षा महानिदेशक अजित बालाजी जोशी ने परीक्षाओं को लेकर कुलपतियों को कई अहम निर्देश दिए।

मजबूरियों के चलते परीक्षा नहीं दे पाने वाले विद्यार्थियों को मिलेगा एक और मौका

प्रदेश में करीब दो लाख से अधिक विद्यार्थी परीक्षाओं में शामिल होंगे। अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों के लिए कंपार्टमेंट और रि-अपीयर की परीक्षा का भी प्रावधान रखा गया है। अधिकतर विद्यार्थियों ने ऑफलाइन परीक्षा की बात कही है, लेकिन बड़ी संख्या में विद्यार्थियों ने ऑनलाइन परीक्षा का विकल्प भी चुना है। ऑनलाइन परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों को नकल से रोकने या किसी ओर द्वारा परीक्षा न देने के उपाय भी सभी विश्वविद्यालयों ने किए हैं।

हॉस्टल में ठहर सकेंगे विद्यार्थी

दूर स्थान से आने वाले विद्यार्थियों के लिए एक या इससे अधिक दिनों के लिए हॉस्टल में रहने की व्यवस्था भी की जाएगी। हालांकि एक कमरे में सिर्फ एक विद्यार्थी ही रह सकेगा। परीक्षा केंद्रों में सभी परीक्षार्थियों में दो गज की दूरी की व्यवस्था की गई है। डेट शीट इस तरह बनाई जाएगी कि एक समय में कम से कम विद्यार्थी ही परिसर में आएं। सभी को मास्क लगाने के साथ ही खुद को सैनिटाइज भी करना होगा। कॉलेज के विद्यार्थी कॉलेज में ही परीक्षा दे पाएंगे। विश्वविद्यालयों में परीक्षा का दायित्व डीन और विभागाध्यक्ष तथा कॉलेजों में प्राचार्यों को सौंपा गया है।

ऑनलाइन परीक्षा में मिलेगा अधिक समय

मार्च के बाद ज्यादातर शिक्षण कार्य शिक्षण ऑनलाइन हुआ है। इसलिए हर परीक्षा में समय व विकल्पों में ढील दी जाएगी। ऑनलाइन परीक्षा के लिए अपलोडिंग और डाउनलोडिंग के लिए अतिरिक्त समय दिया गया है। परीक्षा में तीन तरह के प्रश्नपत्र होंगे जिसमें बहुविकल्पी प्रश्न, संक्षिप्त व व्याख्या के प्रश्न होंगे। उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन का काम भी साथ-साथ चलेगा। सितंबर में ही नए दाखिले भी हो जाएंगे और सब कुछ ठीक रहा तो अक्टूबर में सामान्य तरीके से पढ़ाई शुरू हो जाएगी।

कॉलेजों में दाखिलों का शेड्यूल

ऑनलाइन एडमिशन पोर्टल 7 सितंबर से खुलेगा। सभी विद्यार्थी 21 सितंबर तक ऑनलाइन फार्म जमा करा सकते हैं। 22 से 25 सितंबर तक फार्मों की जांच व छंटनी होगी। 26 सितंबर को मेरिट लिस्ट जारी होने के तुरंत बाद फीस जमा कराने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। 29 सितंबर तक ऑनलाइन फीस जमा कराई जा सकेगी। दूसरी मेरिट लिस्ट 30 सितंबर को जारी होगी। पहली से 5 अक्टूबर तक फीस जमा कराई जा सकेगी। 6 अक्टूबर से काउंसलिंग शुरू होगी। अगर पहली और दूसरी मेरिट लिस्ट जारी होने के बाद तय समय में फीस जमा नहीं कराई गई तो सीट को रद कर दिया जाएगा।

15 फीसद सीटें दूसरे राज्यों के लिए

विभिन्न संकायों में 15 फीसद सीटें दूसरे राज्यों के विद्यार्थियों के लिए होंगी। 85 प्रतिशत सीटों पर हरियाणा मूल के विद्यार्थियों का दाखिला होगा। इनमें से 10 प्रतिशत आर्थिक रूप से पिछड़ी लोगों, 20 प्रतिशत अनुसूचित जाति, 16 प्रतिशत पिछड़ा वर्ग – बीसीए, 11 प्रतिशत पिछड़ा वर्ग -बीसीबी तथा तीन प्रतिशत दिव्यांगों के लिए आरक्षित होंगी।

परीक्षाएं टालने के पक्ष में इनसो, केंद्रीय शिक्षा मंत्री से मांगा मिलने का समय

उधर, जननायक जनता पार्टी (जजपा) के छात्र संगठन इनसो ने कोरोना के चलते सरकार से सभी परीक्षाएं स्थगित करने की मांग की है। इसके लिए इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री से मिलने का समय मांगा है।

चंडीगढ़ में मंगलवार को पत्रकारों से बातचीत में दिग्विजय ने कहा कि कॉलेज परीक्षाओं के साथ ही जेईई और नीट की परीक्षा को कोरोना का प्रकोप खत्म होने तक स्थगित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि बरोदा उपचुनाव को लेकर इनसो के युवा साथियों ने गांव-गांव जाकर तैयारी शुरू कर दी है। उन्होंने कहा कि इनेलो का आज इतना बुरा हश्र हो चुका है कि वे अपनी कार्यकारिणी में ऐसे लोगों को पदाधिकारी बना रही है जो बाद में प्रेस कान्फ्रेंस कर उन्हें बताते है कि हम उनकी पार्टी में ही नहीं हैं।

Advertisement