चीन पर सख्त सीएम योगी: लिया बड़ा फैसला, लगा दिए ये प्रतिबन्ध

लखनऊ: भारत और चीन के बीच सीमा पर तनाव की स्थिति बनी हुई है। इस दौरान भारत सरकार और राज्य सरकारें एक के बाद एक बड़े फैसले ले रही हैं। इसी कड़ी में अब उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने भी चीन को बड़ा झटका दिया है। चीन की कोई भी कम्पनी उत्तर प्रदेश के किसी भी सरकारी प्रोजेक्ट में शामिल नहीं हो सकेंगे। सरकार ने चीनी कंपनियों पर राज्य के सरकारी योजनाओं के टेंडर डालने पर रोक लगा दी है।

योगी सरकार ने बैन की चीनी कंपनियां

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने चीन पर सख्त कार्रवाई करते हुए चीनी कंपनियों को बैन कर दिया है। योगी सरकार ने प्रदेश के सभी विभागों को इस बाबत आदेश दिए है। सभी सरकारी विभागों को ये प्रतिबंध तत्काल लागू करने के आदेश दिए गए है। कहा गया कि सरकारी खरीद में चीन समेत कुछ निश्चित देशों के बिडर्स और कंपनियों के शामिल होने पर रोक रहेगी।

किसी सरकारी योजना में चीन की कंपनियां नहीं डाल सकेंगी टेंडर

सभी सम्बन्धित सरकारी विभागों को सरकार की ओर से चीन बैन पर पत्र लिख कर विस्तृत जानकारी दी गयी। वहीं इसके लिए सरकार अब एक प्राधिकरण के गठन की तैयारी में है, जहां संबंधित देशों की कंपनियों को रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके लिए पहले इन कंपनियों को रक्षा मंत्रालय, विदेश मंत्रालय से मंजूरी लेनी होगी। वहीं गृह मंत्रालय से सुरक्षा संबंधी अनुमति लेनी होगी।

चीनी कंपनियां इसके बाद ही रजिस्ट्रेशन कर पायेगी। वहीं रजिस्ट्रेशन के बाद हर तीन महीने के अंतराल पर राज्य सरकार केंद्र को उस कंपनी से संबंधित रिपोर्ट भेजेगी।

रेलवे और अन्य अहम क्षेत्रों में चीनी कंपनियों पर रोक

बता दें कि इसके पहले योगी सरकार ने कुछ चीनी कंपनियों का टेंडर रद कर दिया था। हालंकि सिर्फ यूपी में ही चीन पर प्रतिबन्ध नहीं लगा है, बल्कि इसके पहले केंद्र सरकार ने रेलवे और अन्य अहम क्षेत्रों में चीनी कंपनियों पर रोक लगा दी है। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी हाल ही में एक बड़े रोड प्रोजेक्ट में चीन की कम्पनी के शामिल होने पर रोक लगा दी है।

Advertisement