CBSE की मार्कशीट में अजीब गलतियां, जन्म से पहले पास हुआ छात्र

Advertisement

------------- Advertisement -----------

नई दिल्ली । CBSE 10th results 2020: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के दसवीं कक्षा के परीक्षा परिणाम की मार्कशीट देखकर छात्र-छात्राएं असमंजस में हैं। छात्रों ने सीबीएसई द्वारा उपलब्ध एसएमएस सुविधा से ऑनलाइन अपनी मार्कशीट निकाली तो उन्हें देखकर ज्यादातर हैरान रह गए। छात्रों की मार्कशीट में न सिर्फ ग्रेडिंग गलत दिए गए थे बल्कि जन्म तारीख भी गलत दर्शायी हुई हैं। कुछ को तो जन्‍म से पहले 10वीं पास करवा दिया गया। किसी की जन्‍मतिथि ऐसी दर्ज कर दी कि वह जन्‍म के 186 दिन बाद ही 10वीं की परीक्षा पास कर गया। अब सीबीएसई ने इसे ठीक करने का भरोसा दिया है।

सीबीएसई ने ऑनलाइन जारी कर दी 153 और 186 दिन के छात्रों की मार्कशीट

Advertisement

दसवीं कक्षा की मार्कशीट में अंकित जन्मतिथि उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए जरूरी भी होती है। ऐसे में छात्रों के साथ उनके अभिभावक भी परेशान नजर आए। अभिभावकों ने इस गलत मार्कशीट के लिए पहले तो अपने बच्चों के स्कूलों में संपर्क किया मगर वहां से सीबीएसई तक जन्मतिथि संबंधी सही जानकारी भेजी गई थी।

गलत जन्मतिथि और ग्रेडिंग से परेशान अभिभावकों ने सीबीएसई में की शिकायत

बाद में हरियाणा राज्य में सीबीएसई के पंचकूला जोन के अधिकारियों ने यह गलती स्वीकार की है। उन्‍होंने कहा कि कहा कि जब छात्रों को मार्कशीट की कॉपी भेजी जाएगी तब ये गलतियां दूर कर दी जाएंगी।

मार्कशीट में रही ऐसी गलतियां

फरीदाबाद में एक निजी स्कूल के छात्र तेजस ने बताया कि उसकी जन्मतिथि के स्थान पर 9-1-20 अंकित है.। अर्थात उम्र के हिसाब से उसने 186 दिन की आयु में ही दसवीं की परीक्षा पास कर ली। यह मार्कशीट कहीं भी मान्य नहीं होगी।

अरुण गुप्ता ने बताया कि उनकी बिटिया की दसवीं की मार्कशीट जब उन्होंने ऑनलाइन निकाली तो उसमें बिटिया की जन्म तारीख 12 फरवरी 2020 दर्शायी। इसके अलावा मार्कशीट में 87 नंबर पर  ग्रेड ए-टू, 86 पर बी-वन,75 पर बी-वन,81 पर ए-टू,69 पर सी-वन तथा 94 पर बी-वन ग्रेड दिया था। मार्कशीट में दर्शायी इन गलतियों से वे दिन भर परेशान रहे।

यमुनानगर: सीबीएसई ने 10वीं कक्षा का जो परिणाम घोषित किया है उसमें बच्चों की मार्कशीट में खामियां देखने को मिल रही है। न्यू हैप्पी पब्लिक स्कूल यमुनानगर की प्रिंसिपल डा. बिंदू शर्मा ने बताया की बच्चों की जन्मतिथि में बोर्ड ने भारी गलतियां कर रखी हैं। स्कूल की छात्रा दीक्षा जैन की जन्म तिथि 19 जुलाई 2004 है परंतु मार्कशीट में इसे 19//0/7/20 दिखाया गया है।

इसी तरह पायल की मार्कशीट में 30//0/5/20, सहजलप्रीत सिंह की 29//0/8/20 कर दिया गया। इसी तरह मुकंद लाल पब्लिक स्कूल सरोजनी कालोनी के छात्र मनदीप सिंह की जन्म तिथि को 05//0/3/20 लिखा गया है। इसके अलावा और भी कुछ ऐसे हैं जिनमें बच्चों की जन्म तिथियों में गलतियां की गई हैं।

जन्म से पहले ही पास कर दी दसवीं

सिरसा: सिरसा में भी विद्यार्थियों द्वारा निकाले गए परिणाम में जन्मतिथि गलत पाई गई है। सिरसा के सतलुज पब्लिक स्कूल, डीएवी स्कूल, दि सिरसा स्कूल, केंद्रीय विद्यालय के विद्यार्थियों से बातचीत करने के बाद उन्होंने जन्मतिथि गलत होने की सूचना दी है। हालांकि कई विद्यार्थियों के परिणाम की जन्म तिथि 8 मई 2020 दी गई है तो कई विद्यार्थियों की नवंबर 20 की तिथि दी गई है जो अभी तक आई ही नहीं।

जन्मतिथि गलत होने की जानकारी मिलने के बाद विद्यार्थियों को भी परेशान होना पड़ रहा है। हालांकि अभी विद्यार्थियों की मार्कलिस्ट आना शेष है। ऐसे में विद्यार्थियों की मार्कलिस्ट में भी गलती आती है तो विद्यार्थियों को कई तरह की समस्या झेलनी पड़ सकती है। केंद्रीय विद्यालय के छात्र आर्यन मिश्रा की जन्मतिथि 11 नवंबर 2004 है लेकिन परिणाम में 11 नवंबर 20 दिया गया है। वहीं दी सिरसा स्कूल की छात्रा प्रिया कंबोज की जन्मतिथि 8 मई 2004 है लेकिन परिणाम में 8 मई 2020 दी गई है। वहीं अन्य कई विद्यार्थियों की जन्मतिथि भी गलत दी गई है।

पानीपत: यहां भी ऐसे मामले सामने आए हैं। एमएएसडी स्कूल के प्रिंसिपल अजय गुप्ता ने बताया कि बच्चों की जन्म वर्ष 2020 हो गया है। ये तकनीकी खामी रही है। उनकी सीबीएसई के अधिकारियों से बात हुई है। उन्होंने आश्वस्त किया है कि एक या दो दिन में इसमें सुधार कर देंगे। डिजिटल लॉकर में जो मार्कशीट होगी, उसमें जन्म वर्ष सही ही दर्ज होगा।

”इन गलतियों के बारे में पंचकूला जोन सीबीएसई को अनेक शिकायतें मिल रही हैं। यह तकनीकी खामी के कारण गलती हुई है। सब कुछ ठीक कर लिया गया है और छात्रों को जो कॉपी मार्कशीट के रूप में मिलेगी, वह बिल्कुल ठीक मिलेगी।

Advertisement