पड़ोसी राज्यों के लिए इस दिन से शुरू हो होंगी रोडवेज की बसें

चंडीगढ़। हरियाणा के शहरों से राजधानी चंडीगढ़ के लिए रोडवेज की बस सेवा 16 सितंबर से शुरू हो जाएगी। अन्य राज्यों के लिए भी बस सेवा जल्द शुरू होने की उम्मीद है। इस संबंध में संबंधित राज्यों के परिवहन मंत्रियों व अधिकारियों से बातचीत चल रही है। यह जानकारी परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने एक बैठक के बाद मीडिया को दी।

मंत्री ने कहा कि केंद्र की जो नई गाइडलाइंस आई हैं, उसके मद्देनजर अंतरराज्यीय बस सेवा शुरू करने को लेकर प्रदेश सरकार तैयार है। लॉकडाउन खत्म होने के बाद राजस्थान और उत्तर प्रदेश के लिए कुछ बसें चल रही हैं, लेकिन हिमाचल प्रदेश, पंजाब, जम्मू कश्मीर, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड और चंडीगढ़ के लिए बस सेवा शुरू नहीं हो पाई है। राजधानी चंडीगढ़ के लिए 16 सितंबर से बस सेवा शुरू हो जाएगी, जबकि अन्य पड़ोसी राज्यों से बसों का संचालन शुरू करने के लिए वहां के परिवहन मंत्रियों और अफसरों से बातचीत की जा रही है। उनकी हरी झंडी मिलते ही इन प्रदेशों के लिए भी रोडवेज बसों का आवागमन शुरू हो जाएगा।

अवैध बसों और मैक्सी कैब पर कसेगा शिकंजा

कोरोना काल में रोडवेज बसों की कमी का फायदा उठाते हुए सड़कों पर फर्राटा भर रहे अवैध वाहनों पर अब शिकंजा कसेगा। प्रदेश में अवैध वाहनों के खिलाफ अभियान चलाते हुए बगैर परमिट चल रही प्राइवेट बसों, मैक्सी कैब और टैक्सियों के चालान किए जाएंगे। अवैध वाहनों को रोकने के लिए परिवहन सचिवों (आरटीए) का काम संभाल रहे अतिरिक्त उपायुक्तों और रोडवेज अधिकारियों की संयुक्त टीमें बनाकर सभी जिलों में नाकेबंदी होगी।

परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने मंगलवार को अधिकारियों के साथ हुई बैठक में अवैध वाहनों पर कोई रियायत नहीं बरतने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी जिलों में नाके लगाकर अवैध रूप से चल रही निजी बसों, मैक्सी कैब और प्राइवेट टैक्सी में सवार लोगों को रोडवेज बसों में बैठाया जाए। दोषी वाहन मालिकों से पूरा जुर्माना वूसला जाएगा।

हरियाणा रोडवेज को 900 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान

परिवहन मंत्री ने बताया कि महामारी के चलते इस साल हरियाणा रोडवेज को 900 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि किलोमीटर स्कीम के तहत चलने वाली बसें तभी चलाई जाएंगी जब हरियाणा रोडवेज की तमाम बसें सड़क पर उतर जाएंगी। अक्टूबर में रोडवेज बसों में ई-टिकटिंग की व्यवस्था शुरू कर दी जाएगी। विभिन्न जिलों में बस स्टैंड के विस्तार और नवीनीकरण के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि जब मुख्यमंत्री मनोहर लाल स्वस्थ होकर आ जाएंगे, उसके बाद बजट तय होने पर फैसला किया जाएगा।

Advertisement