ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री के लिए संजीवनी बनेगा सोशल डिस्टेंसिंग, जानिए कैसे

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ऑटो सेक्टर के जानकारों का मानना है कि लॉकडाउन खुलने के बाद छोटी कारों, टूव्हीलर और साइकिल की बिक्री में बढ़ोतरी होगी। इसकी वजह लोगों का सार्वजनिक परिवहन के बजाए निजी परिहवन के उपयोग को प्राथमिकता देने से होगा।

Hero Motors (हीरो मोटर्स) के चेयरमैन और एमडी पंकज एम मुंजाल ने कहा कि लॉकडाउन खत्म होने के बद भी सावधान और सतर्कता रहने की जरूरत है, जिसके लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा।

ब्रिटेन और जर्मनी समेत यूरोप के कई देशों में साइकिल और इलेक्ट्रिक साइकिल (ई-साइकिल) की मांग में तेजी आई है। इसकी वजह है कि लोग पब्लिक ट्रांसपोर्ट में सफल करने से बचना चाहते हैं क्योंकि उसमें काफी भीड़ होती है।

List of electric two-wheelers to be launched in 2020 - News Nation

पारंपरिक साइकिल के साथ-साथ ई-साइकिल कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के सबसे आसान समाधान हैं। यह तरीका जानलेवा वायरस के संक्रमण फैलने के दूसरे दौर को रोकने में मददगार साबित हो सकता है।

लॉकडाउन के दौरान फैक्ट्री से निकलने वाले धुएं और वाहन नहीं चलने से पेट्रोल-डीजल से निकलने वाले प्रदूषण से पर्यावरण को अभूतपूर्व फायदा हुआ है। दुनियाभर मे वायु गुणवत्ता सूचकांक बेहतर हो गई है। हवा और नदियां साफ हो गई हैं। पर्यावरण को हुए इस लाभ को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए।

वहीं मावोक्स हेलमेट के प्रबंध निदेशक, आयुष्मान मेहता ने बताया कि मेरा मानना है कि लॉकडाउन के बाद छोटी कारों की मांग में तेजी आएगी। वे इसकी वजह बताते हैं कि भारत में ज्यादातर आबादी निम्न और मध्यम वर्ग से ताल्लुक रखती है।

Advertisement