NCR में एक ही दिन में इतने मामले बढ़ने पर बना चिंता का विषय: अनिल विज

चंडीगढ़ : हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा है कि रैपिड टेस्ट किट्स से सभी स्वास्थ्य कर्मियों, पुलिस व होम गार्ड कर्मियों, नगर निगम कर्मियों, रेहड़ी फड़ी वाले, दूध वालों व डिपो होल्डर्स सहित उन सभी लोगों के टेस्ट किये जाएंगे। जिनका जनता से सीधा सरोकार है। इसके अलावा घर-घर सर्वे के दौरान जिन लोगों मे लक्षण पाए गए है। उनके भी टेस्ट रैपिड टेस्ट किट्स के जरिए किए जाएंगे।

उन्होंने बताया कि एनसीआर में एक ही दिन में 18 मामले बड़े है। ये हमारे लिए काफी चिंता का विषय है। इसीलिए हमने प्रदेश के बॉर्डर्स सील करने के आदेश जारी किए है। बॉर्डर्स पर पूरी सख्ती रखी जाएगी और किसी को हरियाणा में एंटर नहीं करने दिया जाएगा।

विज ने कहा कि ये वैश्विक महामारी है और सबको इसके खिलाफ मिलकर लड़ना है, लेकिन मुझे पहले अपने प्रदेश की चिंता करनी है। उन्होंने कहा कि हमारा रिकवरी रेट 72 प्रतिशत है। 15 से 20 दिन में हमारा प्रदेश कोरोना फ्री हो सकता है, लेकिन इसके लिए सबसे महत्वपूर्ण काम कोरोना को बाहर से यहां आने से रोकना। इसलिए हम सख्ती करेंगे। जबकि केंद्र ने जिन्हें इजाजत भी दी है उनका भी पहले टेस्ट किया जाएगा उसके बाद रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद ही उन्हें प्रदेश में आने दिया जाएगा।

अनिल विज ने कहा कि कोविड 19 को लेकर हरियाणा के अस्पतालों में मरीजों का अच्छे तरीके से इलाज किया जा रहा है, जिसका श्रेय उनकी हेल्थ टीम को जाता है। वहीं उन्होंने बताया कि कोविड 19 की स्थिति को लेकर विपक्षी पार्टियों से भी लगातार बैठकें हो रही है। जिसमें वीरवार को भी विपक्ष के साथ हुई बैठक में विपक्ष ने इस घड़ी में सरकार के साथ मिलकर काम करने की बात कही है।

कर्मचारियों की मांगों को लेकर अनिल विज ने कहा कि इस दौर में हर प्रदेश और हर सेक्टर में वितीय स्थिति प्रभावित हुई है, जिसका थोड़ा -थोड़ा बोझ सबको उठाना होगा। अनिल विज ने बताया कि हरियाणा में 120 तब्लीगी पॉजिटिव पाए गए थे जिनमें से ज्यादातर ठीक हो चुके है। उन्होंने बताया कि 107 तब्लीगी विदेश से टूरिस्ट वीजा पर आए थे। जिन्होंने धर्म प्रचार में हिस्सा लिया। उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। उन्होने बताया कि इस वक्त हरियाणा में पर मिलियन 1 हजार से अधिक टेस्ट हो रहे है।

कुरुक्षेत्र में खाद्य आपूर्ति विभाग के  की और से खुदकुशी मामले पर उन्होंने कहा कि कुछ अधिकारियों की और से उन्हें मानसिक तौर पर प्रताड़ित करने के आरोप लगे थे। जिसकी जांच सीबीआई को दी गई है। अनिल विज ने कहा कि प्रदेश में कोविड 19 ड्यूटी के दौरान पुलिस की काफी अच्छी भूमिका रही है। जिन्होंने अपनी ड्यूटी से हटकर समाज सेवा के भी कार्यो में हिस्सा लिया। जबकि उनकी पुलिस पूरी तरह से दुरुस्त तरीके से काम कर रही है।

Advertisement