ई-गर्वनेंस के माध्यम से नागरिकों को, सेवाएं प्रदान करने में जुटी सरल केन्द्र करनाल !

इंडिया ब्रेकिंग/करनाल रिपोर्टर(ब्यूरो) ई-गर्वनेंस प्रणाली के माध्यम से नागरिकों को सेवाएं प्रदान करने की दिशा में  अंतोदय सरल केन्द्र अहम भूमिका निभा रहे है। हरियाणा में अंतोदय सरल केन्द्रों के माध्यम से ई-शासन में बेहतर कार्य करने के लिए केन्द्र सरकार की ओर से 23वें राष्ट्रीय पुरस्कार समारोह में प्रदेश को गोल्ड अवाड से सम्मानित करने की तैयारी चल रही है । नागरिकों को कम से कम समय में सेवाएं सुलभ करवाने  में प्रदेश के जो जिले शीर्ष पर है, उनमें करनाल भी शामिल है। यह बात इससे भी सपष्ट  हो जाती है कि  सेवा का अधिकार अधिनियम के तहत करनाल का सरल केन्द्र नागरिकों को संतुष्ट करने में 88 प्रतिशत है। यही नहीं अपांयटमेंट आदि की प्रक्रिया के बाद एक नागरिक को सेवा प्राप्त करने में मात्र 10 मिनट से भी कम समय लगता है। इस उपलब्धि के साथ जनवरी 2020 में करनाल,प्रदेश के उच्चतम रैंक वाले अन्तोदय व सरल केन्द्रों में तृतीय स्थान पर रहा। दूसरी ओर सरल केन्द्रों में सेवाओं को लेकर नागरिकों की शिकायतों का पिछली एक तिमाही में 81 प्रतिशत समाधान किया गया।

 

जनवरी 2020 में प्रदेश के शीर्ष जिलों के सरल केन्द्रों का स्कोर:-

सोनीपत – 9.86

रोहतक  – 9.82

करनाल  – 9.82

इसी मास में उच्चतम रैंक वाले केन्द्रों की स्थिति:-

अंत्योदय सरल केन्द्र, बराड़ा,

अंत्योदय सरल केन्द्र, सफीदों,

सरल केन्द्र, करनाल।

नागरिको को सेवा प्रदान करने में समयावधि – 10 मिनट से कम (सरल केन्द्र करनाल)

उपायुक्त एवं जिला सूचना प्रोद्योगिकी सोसाइटी के अध्यक्ष निशांत कुमार यादव ने गुरूवार को बताया कि वर्तमान में करनाल जिला मुख्यालय पर  विभिन्न सरकारी विभागों से जुड़ी स्कीमों का लाभ लेने के लिए पंचायत भवन परिसर में अंतोदय भवन के अतिरिक्त, नागरिकों को सेवाएं प्रदान करने के लिए लघु सचिवालय के भूतल पर सरल केन्द्र व तहसील कार्यालय में भी सरल केन्द्र स्थापित हैं। जबकि उपमंडल स्तर पर ए.एस.के यानी अंतोदय सरल केन्द्र खोले गए हैं, जिनमें स्कीम  व सेवाएं दोनों उपल्बध हैं। कोई भी नागरिक स्कीमों की जानकारी लेकर उसके तहत मिलने वाली सरकारी सेवा को हासिल कर सकता है। इसमें किसी बिचोलिए की जरूरत नहीं। आम नागरिक सरल केन्द्र में आकर अपना काम करवा सकता है। उन्होंने बताया कि सरकार के विभिन्न 38 विभागों से जुड़ी सेवाओं की सख्या पहले 500 थी अब नागरिकों की मांग पर इनमे 26 ओर जोड़ दी गई है।

सरल केन्द्रों में आने वाले नागरिकों के बैठने व इंतजार करने के लिए कुर्सियाँ, पंखे, रोशनी, डैश बोर्ड तथा अपांयटमेंट व सेवाएं लेने के लिए पर्याप्त संख्या में कांउटर उपलब्ध करवाए गए है। सप्ताह के सभी पांच कार्य दिवस अपांयटमेंट के लिए रखे गए हैं। जिला मुख्यालय स्थित सरल केन्द्र में प्रतिदिन आने वाले नागरिकों का फुटफाल औसतन  700 तक है। इसमे सारथी यानि ड्राईविंग लाइसेंस जैसे कामों के लिए 300, व्हीकल रजिस्टेशन या आर सी के 170 और जाति व विवाह  जैसे सभी प्रमाणपत्र हासिल करने वालों की औसतन सख्यां 230 है। सरल केन्द्र में बैठे ऑपरेटर या कर्मचारियों को स्पष्ट निर्देश है कि वे किसी का भी पक्षपात ना करे बल्कि जो लोग लाईन में लगे हैं, उन्ही का ही काम करें।

दूसरी और एनआईसी के डीआईओ महिपाल सीकरी ने आम नागरिकों से अपील की है कि नागरिक सरल केन्द्र में अपने काम के लिए किसी भी दलाल से ना मिलें, बल्कि यदि उन्हे कोई दलाल पैसे लेकर काम करवाने के लिए कहता है तो उसकी सूचना एनआईसी या उपायुक्त कार्यालय में दें। पैसे देकर काम करवाने से भ्रष्टाचार बढ़ता है, जबकि बिना किसी माध्यम से आसानी से काम करवाया जा सकता है।

Advertisement