मंदिर में गुम हो गईं महिला की चीखें, पुजारी और चेलों ने पार कीं दरिंदगी की सारी हदें…

उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले के उघैती इलाके के एक धर्मस्थल में महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया। उसके साथ मारपीट की गई, लेकिन हैरानी की बात यह रही कि आसपास के लोगों ने उसकी चीखें तक नहीं सुनीं, जबकि धर्मस्थल गांव के नजदीक है। वहीं कुछ दूरी पर लोगों के घर बने हुए हैं। उन्हें महिला की चीखें सुनाई देना तो दूर उसके कुएं में गिरने के बारे में तक में नहीं सुना।

Badaun gang rape and murder case

धर्मस्थल पर सिर्फ पुजारी सत्यनारायण दास रहते हैं। वहीं बराबर में वेदराम और यशपाल के खेत हैं। ग्रामीणों के मुताबिक ये दोनों सत्यनारायण दास के चेले हैं, जो अक्सर धर्मस्थल पर बैठकर अपना समय बिताते हैं। पुजारी ने महिला के कुएं में गिरने की कहानी बनाकर इन्हीं दोनों आरोपियों को मदद के लिए बुलाने की बात कही थी।

यही है वो कुआं

इसके अलावा महिला के साथ क्या हुआ किसी को पता नहीं था? इसके बावजूद थाना पुलिस पुजारी ने जो कहानी बनाई, उसे ही आगे बढ़ाने की कोशिश कर रही थी। एक बार भी यह नहीं सोचा गया कि आखिर महिला की ऐसी हालत कैसी हुई। इंस्पेक्टर राघवेंद्र प्रताप सिंह ने दावा किया था कि उन्होंने महिला कांस्टेबल से महिला का शरीर दिखवाया था, लेकिन उसके शरीर पर ऐसा कोई चोट का निशान नहीं मिला। इंस्पेक्टर की इस लापरवाही ने पूरे पुलिस विभाग को शर्मसार कर दिया।

इसी कोठरी में है कुआं

…प्राइवेट पार्ट में ठूंसा गया था कपड़ा और रुई

धर्मस्थल के पुजारी पर ये अंदाजा लगाना मुश्किल था कि वह महिला के साथ दुष्कर्म कर सकता है, लेकिन वह तो दरिंदा निकला। उसके दोनों चेलों ने भी दरिंदगी की हदें पार कर दीं। महिला के प्राइवेट पार्ट में रॉड डाली गई थी। इससे उसका खून बहने लगा। खून रोकने के लिए उसके गुप्तांग में कपड़ा और रुई ठूंस दी थी। हालांकि महिला के सारे कपड़े खून से लथपथ मिले थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी यही बयां कर रही है।

घटनास्थल

वीडियो ने कर दी आरोपों की पुष्टि

दुष्कर्म के बाद महिला की हत्या के मामले में भले ही पुलिस, पुजारी व दो अन्य आरोपियों को दोषी नहीं मान रही थी, लेकिन सोमवार को सामने आए वीडियो ने जुर्म की पुष्टि कर दी। पुजारी ने बयान दिया था कि वह धर्मस्थल पर था। महिला आई थी, लेकिन वह कुएं में गिर गई। इससे उसने दो लोगों को बुलाया और चंदौसी ले गए, लेकिन उसे वापस घर छोड़ने वाली बात हजम नहीं हुई।

जब महिला की हालत इतनी गंभीर थी तो उसे वापस क्यों लाया था? इसके अलावा पुजारी ने महिला को जिस कुएं में गिरने की बात कही थी, वो कुआं एक टीनशेडनुमा कोठरी में है। उसकी दीवार और धर्मस्थल की दीवार लगी हुई हैं। वह कोई आम रास्ता नहीं है, जहां से कोई गुजरते समय गिर जाए।

सांकेतिक तस्वीर

पुलिस ने खुद फरार कराए आरोपी

सोमवार को जिस समय महिला की मौत के बाद माहौल गर्म हो रहा था। उस दौरान आरोपी गांव में और पुजारी धर्मस्थल पर मौजूद था। पुलिस उसके बयानों के आधार पर पूरा मामला घुमाने का प्रयास कर रही थी, लेकिन आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया गया। परिणाम यह रहा कि मंगलवार सुबह तक तीनों आरोपी गांव से फरार हो गए।

बदायूं एसएसपी

इस मामले में धर्मस्थल के पुजारी व दो अन्य लोगों के खिलाफ हत्या और दुष्कर्म के आरोप में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। महिला के शरीर पर चोट के निशान मिले हैं। उसके प्राइवेट पार्ट में चोट मिली है। एक पसली टूटी मिली है। पैर में भी फ्रैक्चर है। एक आरोपी गिरफ्तार कर लिया गया है, बाकियों की तलाश जारी है।

सिद्धार्थ वर्मा, एसपी देहात

Advertisement