करोना महामारी में हरियाणा की इस जगह पर हुआ सैनिटाइजर और मास्क के बहाने 62 लाख का फ्रॉड

फरीदाबाद : जहां पूरा देश कोरोना महामारी से जंग लड़ रहा है वहीं दूसरी ओर कुछ ऐसे भी लोग हैं जो इस महामारी के दौर में भी घोटाले करने से बाज नहीं आ रहे। कुछ ऐसा ही मामला फरीदाबाद के गांव नीमका में सामने आया जहां पर सैनिटाइजर और मास्क बांटने के नाम पर 62 लाख का घोटाला सामने आया है। जिला पंचायत अधिकारी ने मामले पर संज्ञान लेते हुए गांव के सचिव को सस्पेंड कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।

फरीदाबाद का गांव नीमका महामारी के इस दौर में सुर्खियों में बना हुआ है क्योंकि इस गांव के सरपंच के द्वारा लगभग 62 लाख के मांसक और सैनिटाइजर गांव में वितरित किए गए हैं 8 हजार की आबादी वाले गांव नीमका के सरपंच पर आरोप है कि उन्होंने लॉकडाउन के दौरान 62 लाख के मास्क सैनिटाइजर खरीदे और लोगों को बांटे, लेकिन जब इस बारे में एक गांव के लोगों से बात की गई तो गांव के लोगों को कहना है कि उन्हें ना तो कोई मास्क मिले ना ही कोई सैनिटाइजर लिहाजा 62 लाख के मास्क और सैनिटाइजर आखिर गए तो गए कहां।

इसी पर संज्ञान लेते हुए जिला पंचायत अधिकारी ने गांव के सचिव को सस्पेंड कर दिया और गांव के सरपंच को नोटिस भेज इस पूरे मामले की जानकारी मांगी है वह इस महामारी के दौर में जहां पूरा देश एकजुट होकर इससे लड़ाई लड़ रहा है। वह इस तरीके के मामले सामने आने से साफ हो जाता है कि इस तरीके की पंचायतों को भ्रष्टाचार करने से कतई डर नहीं लगता लिहाजा अब देखने वाली बात यह होगी कि जिला प्रशासन इस तरीके की पंचायतों के ऊपर कोई ठोस कार्रवाई कर पाते हैं या फिर सिर्फ कागजी दिखावे करके 62 लाख रुपए की हेराफेरी करने वाले सरपंच कानूनी दांवपेच खेल निकल जाएंगे।

Advertisement