शर्मनाक हरकत: सगे भाई ने ही किया LKG की छात्रा से रेप, ऐसे खुला राज

लुधियाना: अमन नगर में एक प्राइवेट स्‍कूल की एल.के.जी. की छात्रा से हुए रेप के मामले को सुलझा लेने का दावा करते हुए पुलिस ने उसके 12 वर्षीय सगे भाई को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस का कहना है कि भाई ने ही इस घिनौनी घटना को अंजाम दिया। इसको सा‍बित करने के लिए उसके पास पर्याप्‍त सबूत हैं।

अदालत में पीड़िता के 164 के तहत बयान दर्ज करवा दिए गए हैं। जबकि दूसरी तरफ लड़के के अभिभावक आरोप लगा रहे हैं कि लड़की के साथ स्‍कूल में घटना हुई है। पुलिस ने उनके बेटे को टार्चर करके अपराध कबूल करवाया है।

एक वरिष्‍ठ पुलिस अधिकारी के अनुसार लड़की का जब मेडीकल करवाया गया तो पता चला कि इस घटना को 10 से 12 साल के लड़के ने अंजाम दिया है। जिस स्‍कूल में वह पढ़ती है उसको पुलिस ने पूरी तरह से खंगाला दिया, लेकिन वहां से ऐसा कोई सबूत नहीं मिला।

इसके साथ ही स्‍कूल से लेकर पीड़िता के घर के आसपास लगे सी.सी.टी.वी. कैमरों की फुटेज चैक की गई तो उसमें यह पता चला कि 2 बजकर 10 मिनट पर पीड़िता अपनी माता व पड़ोसन की बेटी के साथ स्‍कूल से बाहर निकली थी और 2 बजकर 43 मिनट पर घर पहुंची। इस बीच वह अच्‍छी भली थी। इसके बाद 3 बजकर 59 मिनट पर लड़की की मां उसे लेकर वापस स्‍कूल की तरफ जाती हुई दिखाई दी।

इस पर पुलिस ने पीड़िता के घर चैक किया तो बैड पर बिछी चादर पर खून के धब्‍बे मिले। तब पुलिस को यकीन हो गया कि लड़की के साथ घर में ही घटना घटी है। पीड़िता के बयान भी उसके सगे भाई के खिलाफ जा रहे थे। आरोपी के अंडरवीयर पर सिमनस भी मिले हैँ।

पुलिस ने बताया कि इस मामले में पीड़िता के भाई को गिरफ्तार कर लिया गया । उसकी मेडीकल जांच करवाने के बाद जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के समक्ष पेश किया गया। वहीं पीड़िता का डी.एन.ए.टेस्‍ट भी करवाया गया है।

चाइल्‍ड वैल्‍फैयर कमेटी व सोशल एंड चाइल्‍ड वैल्‍फेयर विभाग की मदद से पीड़िता की काऊंसलिंग करवाई जा रही है और विभिन्‍न एन.जी.ओ. से तालमेल करके उसे आर्थिक मदद भी मुहैया करवाई जा रही है।

दिन भर चलते रहे पुलिस व स्‍कूल के खिलाफ धरने-प्रदर्शन वीरवार को दिन भर पुलिस व स्‍कूल के खिलाफ धरने-प्रदर्शनों का दौर चलता रहा व इस मामले को लेकर गुस्‍साए लोगों ने जालंधर बाईपास के निकट सर्विस लेन पर कई बार यातायात जाम करने की कोशिश। प्रदर्शनकारियों में भारी संख्‍या में महिलाए भी थी।

लोगों का आरोप था कि राजनीतिक प्रभाव के चलते स्‍कूल वालों को बचाने के लिए पुलिस पीड़िता परिवार से धक्‍का कर रही है।

उन्‍होंने आरोप लगाते हुए कहा कि पीड़िता की मां व उसके भाई को आधी रात तक थाने में रखकर प्रताडि़त किया गया और उनसे कुछ कागजों पर जबरन हस्‍ताक्षर भी करवाए गए।

जब लोग उन्‍हें छुड़ाने के लिए थाने गए तो उनको पीछे के रास्‍ते गायब कर दिया गया। तड़के 3 बजे पीड़िता का मां घर पहुंची।

सुबह होते ही फिर उनको बुला लिया गया। इस बीच सारा दिन पुलिस प्रदर्शकारियों से जुझती रही। स्थिति की नजाकत को देखते हुए पुलिस ने इलाके के कुछ गण्यमान्‍य की कमेटी बनाई। जिन्‍हें जनकपुरी चौकी ले जाया गया, लेकिन मीडिया को अंदर जाने की अनुमति नहीं दी गई। इस घटना को लेकर इलाके में अभी तनाव की स्थिति बनी हुई है।

 

Advertisement