दुःखद खबर! डोंकी लगाकर अमेरिका में जा रहे 46 लोगों की मौत, पढ़ें पूरी खबर

खबरिस्तान नेटवर्क। बाहरी इलाके में एक ट्रक में कम-से-कम 46 लोगों की लाशें मिली हैं। माना जा रहा है ये लोग अवैध रूप से अमेरिका में दाखिल हुए थे। सभी लोग प्रवासी हैं। स्थानीय मीडिया के अनुसार 16 लोगों को गंभीर स्थिति में अस्पताल ले जाया गया है, जिनमें चार बच्चे भी शामिल हैं। मरने वालों में कोई बच्चा नहीं है।

सोशल मीडिया पर शेयर हो रही तस्वीरों में एक बड़े से ट्रक के आसपास बहुत सारे आपातकर्मी दिखाई दे रहे हैं। लोकल टीवी चैनल्स के मुताबिक  ये ट्रक सैन एंटोनियो के दक्षिण पश्चिम की ओर रेलवे ट्रैक के पास खड़ा था। न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार, सैन एंटोनियो पुलिस डिपार्टमेंट के अधिकारी वाहन के ड्राइवर की तलाश में है, जो मौके से फ़रार है। पुलिस ने तीन लोगों को हिरासत में लिया है।

मौत की वजह नहीं पता

अभी तक ये भी पता नहीं लग सका है कि इन लोगों की मौत किस वजह से हुई। ट्रक में करीब सौ लोग थे। जिन सोलह लोगों को अस्पताल में दाखिल करवाया गया है। उनकी स्किन पर हीट स्ट्रोक जैसे निशान थे। ट्रक का कूलिंग प्लांट भी बंद था। लोगों के पास पीने तक के लिए पानी नहीं था।

हो सकता है डोंकी का मामला

अमेरिका में दाखिल होने के लिए दुनिया भर से लोग अवैध तरीकों से जुगाड़ करते हैं। इन्हों डोंकी कहा जाता है। भारत से भी खासकर पंजाब से भी बड़ी गिनती में लोग अब तक अमेरिका डोंकी से जा चुके हैं। अभी भी डोंकी चलती है। ऐसा माना जा रहा है कि ये डोंकी का ही मामला है और मरने वाले सारे बाहरी देशों के हैं। अब इनमें भारतीय कितने हैं ये अभी खुलासा नहीं हुआ है।

सैन एंटोनियो अमेरिका-मेक्सिको बॉर्डर से करीब 250 किलोमीटर की दूर है। टेक्सस के गवर्नर ग्रेग एबॉट ने इन मौतों के लिए राष्ट्रपति जो बाइडन को ज़िम्मेदार ठहराया है। उन्होंने इसे जानलेवा खुली सीमा नीतियों का नतीजा कहा है।

मेक्सिको के विदेश मंत्री मारसेलो इबरार्ड ने कहा कि उनके एक अधिकारी घटनास्थल के लिए रवाना हो चुके हैं। हालाँकि, उन्होंने कहा कि पीड़ितों की नागरिकता के बारे में अभी भी कोई जानकारी नहीं मिली है।

Advertisement