पालतू जानवरों का पंजीकरण करवाना अनिवार्य, DC करनाल ने दिए आदेश

इंडिया ब्रेकिंग/करनाल रिपोर्टर (ब्यूरो) करनाल 22 मई, उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने बताया कि पालतू जानवरों में क्रूरता की कमी लाने के लिए उनका पंजीकरण करवाना अनिवार्य है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान कुछ मामले पालतू जानवरों में क्रूरता के सामने आए हैं। इस विषय को गंभीरता से लिया जा रहा है, पालतू जानवरों जैसे कुत्तों में क्रूरता में कमी लाने के लिए राज्य पशु कल्याण बोर्ड और पशु कू्ररता की दिशा में काम करने वाले सामाजिक लोगों की अहम भूमिका है। जिले में इसका विशेष ध्यान रखा जाए कि कोई भी पालतू जानवर भूख व प्यास से न मरे।

उपायुक्त ने कहा कि पशुपालन एवं डेयरी विभाग हरियाणा के निर्देशानुसार जानवरों के प्रति कू्ररता को रोकने के लिए बनाए गए अधिनियम के तहत पालतू जानवरों जैसे कुत्ते के प्रजनन के लिए राज्य पशु कल्याण बोर्ड ने निर्देश दिया है कि उनका पंजीकरण करवाना अनिवार्य है। ऐसा होने से पालतू जानवरों का आंकड़ा सबके समक्ष रहेगा और उनकी स्थिति पर पूरा ध्यान केन्द्रित रहेगा, ऐसा होना जनहित का कार्य भी है।

उन्होंने पालतू जानवरों के सभी मालिकों से आग्रह किया है कि जिन लोगों ने अपने घरों में पालतू जानवर रखे हैं वे लोग उनका पंजीकरण अवश्य कराएं और उनके भोजन-पानी की पूरी व्यवस्था रखें। ऐसा ना करने वालों के खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम 2017 व 2018 के तहत कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। उन्होंने पशुपालन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वह संबंधित कार्यों पर अपनी निगरानी रखें और जो व्यक्ति इन नियमों का उल्लंघन करे, उसके खिलाफ कार्यवाही करे। उन्होंने समाज के लोगों से आग्रह किया कि पशुओं के प्रति स्नेह एवं दयापूर्वक व्यवहार रखें, किसी को कहीं किसी भी जानवर के साथ क्रूरता का कोई मामला संज्ञान में आता है तो वह प्रशासनिक अधिकारियों के नोटिस में ला सकता है।

Advertisement