हरियाणा में स्कूल खोलने को लेकर की तैयारी,15 अगस्त के बाद शुरू हो सकती है इन कक्षाओं की पढ़ाई

Advertisement

------------- Advertisement -----------

कोरोना काल के दौरान ही शिक्षा विभाग हरियाणा 10वीं से 12वीं कक्षा तक के विद्यार्थियों के लिए स्कूल खोलने की तैयारी कर रहा है। इसके लिए एसओपी (स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर) तैयार की है। शिक्षा विभाग एसओपी को सरकार के पास भेजेगा। सरकार से अनुमति मिलते ही 15 अगस्त के बाद स्कूल खोले जा सकते हैं। इन तीनों कक्षाओं में प्रदेश में करीब 4.60 लाख विद्यार्थी हैं। स्कूलों में पढ़ाई के लिए मात्र 3 घंटे का समय निर्धारित होगा।

तीनों कक्षाओं के विद्यार्थी स्कूल में 30-30 मिनट के गैप में आएंगे, यही नहीं, इतने ही गैप में छुट्‌टी भी होगी। जैसे- जिस क्लास के बच्चे 8:30 बजे आएंगे, उनकी छुट्‌टी 11:30 बजे होगी। 9 बजे आने वाले बच्चों की छुट्‌टी 12 बजे होगी। शिक्षा विभाग ने स्कूल खोलने के लिए बाकायदा सर्वे भी कराया है। इसके तहत 1.53 लाख लोगों की राय जानी गई है।

Advertisement

कोरोना की वजह से प्रदेश में करीब 51 लाख विद्यार्थियों के स्कूल नहीं खुल पाए हैं, इनमें से 21.50 लाख विद्यार्थी सरकारी स्कूलों में शिक्षा ग्रहण करते हैं। शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुर्जर ने बुधवार को शिक्षा विभाग के एसीएस महावीर सिंह सहित अन्य अधिकारियों के साथ बैठक की। इसमें स्कूल खोलने के प्लान पर विचार किया गया। मंत्री ने आदेश दिए कि स्कूल खोलने की तैयारी जारी रखी जाए।

सोशल डिस्टेंसिंग: 3 कक्षाएं ही बुलाई जाएंगी

10वीं, 11वीं, 12वीं के विद्यार्थी बुलाए जाएंगे। एक कमरे में 15 से अधिक विद्यार्थी नहीं होंगे।

हर कक्षा के विद्यार्थियों के आने-जाने का समय अलग-अलग होगा।

एक डेस्क पर विद्यार्थी होगा, दूसरा डेस्क खाली होगा। कमरे के सारे खिड़की-दरवाजे खुले रहेंगे।

भोजन नहीं कर सकेंगे, पानी घर से लाएंगे। किसी से शेयर नहीं करेंगे।

सुरक्षा: सभी विद्यार्थियों की थर्मल स्कैनिंग होगी

बाहर से काेई व्यक्ति बिना तापमान चेक किए एंट्री नहीं कर पाएगा।

बिना मास्क बच्चे की एंट्री नहीं होगी।

जो भी व्यक्ति या विद्यार्थी स्कूल आएगा, उनका रिकाॅर्ड मेनटेन होगा।

स्कूलों को दिन में दो बार सैनिटाइज कराया जाएगा।

बच्चे पेन-कॉपी शेयर नहीं करेंगे।

सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करेंगे।

प्रार्थना सभा और अन्य गतिविधियां नहीं होंगी।

पढ़ाई: हर रोज पढ़ाए जाएंगे तीन सब्जेक्ट

स्कूल टाइम 3 घंटे का होगा। प्रैक्टिकल कक्षाएं लगेंगी। विद्यार्थी मुश्किल कंटेंट पूछ सकेंगे और टेस्ट भी लिए जाएंगे।

जो अभिभावक बच्चों को नहीं भेजना चाहते, वे घरों पर ऑनलाइन पढ़ाई करा सकेंगे।

न तो किसी बच्चे का नाम कटेगा और न ही गैर हाजिरी लगेगी। जो बच्चे बीमार होंगे, वे फोन पर छुट्‌टी ले सकेंगे।

विभाग के सर्वे में 39.3% बोले- अगस्त में खोलें स्कूल

प्रदेश में स्कूल खोले जाने को लेकर शिक्षा विभाग ने सर्वे भी कराया है। सर्वे में 1,53,970 अभिभावक को शामिल किया गया। इनमें से 39.3 फीसदी ने कहा है कि स्कूल अगस्त में ही खोल देने चाहिए। जबकि 15 फीसदी ने सितंबर में स्कूल खोले जाने की बात कही है। 14.7 फीसदी ने अक्टूबर में स्कूल खालने पर सहमति दी है, 31.1 फीसदी ऐसे हैं जो फिलहाल स्कूल खोले जाने के पक्ष में नहीं हैं।

हरियाणा के शिक्षा मंत्री, कंवर पाल ने कहा कि 10वीं से 12वीं कक्षा तक स्कूल खोले जाने की तैयारी की जा रही है। शिक्षा विभाग के अधिकारियों को प्रपोजल तैयार करने को कहा है। कोरोना के बीच पढ़ाई बाधित न हो, इसके तेजी से प्रयास चल रहे हैं।

Advertisement