इस हाईवे से गुजरना होगा महंगा, इतने बढ़ सकते है टोल के दाम

बहादुरगढ़ : सितंबर से नेशनल हाईवे-9 का सफर महंगा होने जा रहा है। बहादुरगढ़-रोहतक के बीच बने रोहद टोल पर एक सितंबर से टोल दरों में पांच फीसद बढ़ोतरी की संभावना है।

कंपनी तो चार से पांच फीसद बढ़ोतरी की उम्मीद जता रही है। इसका असर रोडवेज बस किराये पर भी पड़ सकता है। ऐसे में लोगों की जेब निजी और सार्वजनिक दोनों वाहनों के सफर में हल्की होगी। दरअसल, प्रदेश भर में कुछ टोल पर दरें वित्त वर्ष की शुरुआत से यानी 1 अप्रैल से बदलती हैं और कुछ की सितंबर की शुरुआत से। रोहद टोल पर यह बदलाव सितंबर से किया जाता है। बस किराये में भी बढ़ोतरी की संभावना

टोल दरें बढ़ती हैं तो रोडवेज बस किराये में भी बढ़ोतरी हो जाती है। प्राइवेट आपरेटर भी रोडवेज की तर्ज पर किराया बढ़ा देते हैं। बहादुरगढ़ से रोहतक का बस किराया हर बार टोल दरों के साथ ही बढ़ जाता है। फिलहाल तो रोडवेज अधिकारियों का कहना है कि टोल दरों में कितना बदलाव होता है, इसका इंतजार है। उसके बाद ही किराया तय किया जाएगा। कैश में 24 घंटों में वापसी पर मिलने वाली छूट अब नहीं

फास्टैग को बढ़ावा देने के लिए लॉकडाउन से पहले ही सरकार द्वारा 24 घंटे में वापसी करने पर टोल में जो छूट मिलती थी, उसको भी कैश में खत्म कर दिया था। यानी एक तरफ की यात्रा का किराया 60 रुपये था। दोनों तरफ का मिलाकर यह 120 रुपये होता था। यदि 24 घंटे के बाद वाहन की वापसी होती थी तो यह टोल 95 रुपये वसूला जाता था, लेकिन कैश में छूट खत्म हो चुकी है। अब सिर्फ फास्टैग पर ही यह छूट है। यह था नवंबर 2015 में शुरुआती टोल शुल्क

वाहन एक तरफ आना-जाना मासिक

छोटे वाहन 58 86 1727

एलसीवी व मिनी बस 101 151 3022

ट्रक व बस 201 302 6044

मल्टी एक्सल व्हीकल 324 486 9714 रोहद टोल पर अभी हैं ये दरें

वाहन एक तरफ आना-जाना मासिक

छोटे वाहन 60 95 1875

एलसीवी व मिनी बस 110 165 3280

ट्रक व बस 220 330 6540

मल्टी एक्सल व्हीकल 350 525 10540

बड़े वाहनों पर बढ़ा ज्यादा टोल

रोहद टोल को चालू हुए पांच साल होने को हैं। यहां पर छोटे वाहनों पर तो टोल करीब चार फीसद बढ़ा है। जबकि बड़े वाहनों पर यह बढ़ोतरी लगभग 10 फीसद तक हो चुकी है। खास बात यह है कि अब तक कैश में भी वापसी पर मिलने वाली छूट को पिछले साल कम कर दिया गया था। यानी पहले एक छोटे वाहन में एक तरफ की यात्रा के 58 रुपये थे। इस तरह कुल मिलाकर 116 रुपये बनते थे। आना-जाना मिलाकर 86 रुपये लिए जाते थे। मगर जब एक तरफ की यात्रा 60 रुपये हुई तो यह कुल 120 बन रहा था। लेकिन दोनों तरफ का मिलाकर 95 रुपये तय किया गया। रोहद टोल पर हर साल सितंबर में रेट रिवाइज होते हैं। एनएचएआइ की ओर से ही नए रेट तय किए जाते हैं। यह सरकार का नीतिगत फैसला होता है। इस बार चार से पांच फीसद रेट बढ़ने की संभावना है।

नागेंद्र, मैनेजर, रोहद टोल प्लाजा

Advertisement