पंडित द्वारा लड़का लड़की का प्रेम विवाह करवाना पड़ा भारी, हाई कोर्ट ने दिए FIR करने के आदेश

चंडीगढ़। विवाह की तय आयु से कम में एक लड़के का विवाह करवाना हिसार के एक पंडित को भारी पड़ गया। मामला पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट के संज्ञान में आने के बाद हाई कोर्ट ने हिसार के एसपी को पंडित के खिलाफ एफआइआर दर्ज कर कोर्ट में रिपोर्ट देने का आदेश दिया है। एसपी ने हाई कोर्ट में जवाब दायर कर कोर्ट को बताया कि पंडित के खिलाफ एफआइआर दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी गई है।

मामला हाई कोर्ट में तब आया जब हिसार का एक प्रेमी जोड़ा प्रेम विवाह कर हाई कोर्ट में परिवार वालों से खतरा बताकर सुरक्षा मांगने गया। सुनवाई के दौरान बेंच ने देखा कि लड़का 20 वर्षीय व लड़की 18 साल की है। कोर्ट ने पुलिस को विवाह करवाने वाले के खिलाफ बाल विवाह निरोधक कानून के तहत एफआइआर दर्ज करने का आदेश जारी कर दिया।

बेंच ने कहा कि लड़की 18 वर्ष की हो चुकी है। ठीक है, लेकिन लड़के की आयु अभी 20 वर्ष है और वह अभी 21 वर्ष का नहीं हुआ है। जस्टिस अरविंद सांगवान ने इस पर सवाल उठाते हुए कहा कि लड़के की शादी को वैध नहीं माना जा सकता है, बल्कि यह विवाह तो विवाह कानून का उल्लंघन कर किया गया है।


हाई कोर्ट ने इस विवाह पर कड़ी आपत्ति जताते हुए कहा कि जब लड़के की आयु अभी 21 वर्ष ही नहीं हुई है तो उसकी शादी कैसे कर दी गई और किस पंडित ने उनकी शादी करवाई है, उस पंडित के खिलाफ तो बाल विवाह निरोधक कानून के तहत एफआइआर दर्ज की जानी चाहिए।

हाई कोर्ट के आदेश पर हिसार के एसपी ने कोर्ट को बताया है कि जांच कर पाया गया है कि लड़के की आयु अभी सिर्फ 20 वर्ष की है, ऐसे में हाई कोर्ट के आदेश पर पंडित के खिलाफ हिसार के सदर थाने में 25 अक्टूबर को बाल विवाह निरोधक कानून की धारा-10 के तहत एफआइआर दर्ज कर दी गई है। वहीं, लड़की के परिवार ने इस लड़के के खिलाफ अपनी बेटी के अपहरण का केस भी दर्ज करवाया हुआ है।

Advertisement