अब 100 और स्पेशल ट्रेन चलाने की तैयारी में है रेलवे, इन 8 राज्यों के रूट की ट्रेनें फुल

Indian Railways : अनलॉक-4 में कई सेवाओं को मिली छूट के क्रम में एक और अहम बात जुड़ सकती है। जल्‍द ही रेलवे 100 और स्‍पेशल ट्रेनों को चलाने की योजना बना रहा है। रेल मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि यात्रियों की सुविधाओं को देखते हुए और अधिक ट्रेनें चलाने की योजना बनाई जा रही हैं। जिन राज्यों से ट्रेनें चलनी हैं और जिन राज्यों को जानी हैं उनसे ट्रेनों के संचालन को लेकर संपर्क किया जा रहा है। राज्यों की मंजूरी मिलने के बाद अतिरिक्त स्पेशल ट्रेनें चलाने की घोषणा की जाएगी।

हालांकि, प्रवक्ता ने यह नहीं बताया कि और कितनी ट्रेनें चलाई जाएंगी, लेकिन सूत्रों के मुताबिक इनकी संख्या सौ से अधिक हो सकती है। रेलवे अभी 230 विशेष ट्रेनों का परिचालन कर रहा है। लेकिन औद्योगिक शहरों में श्रमिकों की बढ़ती मांग के चलते इन ट्रेनों में टिकट की वेटिंग चल रही है। हाल ये है कि अगर आप सितंबर के महीने के किसी दिन का टिकट लेने जाएं तो आपको निराशा ही हाथ लगेगी। बिहार, बंगाल, ओडिशा, झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश से महाराष्ट्र, गुजरात, दिल्ली और अन्य औद्योगिक शहरों की तरफ जाने वाली लगभग सभी ट्रेनों में स्लीपर और एसी 3 के टिकट सितंबर तक फुल हैं।

अभी तक यह हुआ

लॉकडाउन के दौरान विभिन्न शहरों में फंसे श्रमिकों, छात्रों, तीर्थयात्रियों और सैलानियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने के लिए रेलवे ने एक मई से कुछ श्रमिक ट्रेनें चलाई थीं। इनके अलावा 12 मई से 15 जोड़ी विशेष वातानुकूलित ट्रेनों का संचालन किया गया और एक जून से 100 जोड़ी ट्रेनें और चलाई गईं। 230 ट्रेनें के अलावा 30 राजधानी जैसी ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है। नई ट्रेनें चलाई भी जाती हैं, तो इनके परिचालन या समय सारिणी में किसी तरह का बदलाव नहीं होगा।

मेट्रो ट्रेन सेवा शुरू करने की घोषणा

पिछले हफ्ते केंद्र सरकार ने अनलॉक-4 के लिए जारी दिशा-निर्देशों में और कई तरह की रियायतों की घोषणा की थी। इसमें मेट्रो ट्रेन सेवा शुरू करना भी शामिल है। इसी को देखते हुए रेलवे भी और विशेष ट्रेनें चलाने की तैयारी में है।

25 मार्च से ट्रेनों का परिचालन बंद

अनलॉक 4 में अर्थव्यवस्था को और ज्यादा खोल दिया गया है। आर्थिक गतिविधियां तेज होने से श्रमिकों की मांग बढ़ने लगी है, खासकर औद्योगिक शहरों में। लेकिन आवागमन के साधनों के अभाव में व्यावसायिक गतिविधियां तेजी से पटरी पर लौटती नजर नहीं आ रही हैं। कोरोना महामारी के सामने आने के बाद 25 मार्च से ट्रेनों का परिचालन बंद कर दिया गया था। उसके बाद से अभी तक नियमित ट्रेन सेवा बंद ही है।

Advertisement