अब बिजली चोरी करने वालों की खैर नहीं, बिजली विभाग ने उठाया ये सख्त कदम

Advertisement

------------- Advertisement -----------

बहादुरगढ़ : स्थानिय गांव के जिन घरों में ए.सी लगा है उन घरों में कभी भी बिजली विभाग के अधिकारी दस्तक दे सकते हैं। दरअसल ग्रामीण क्षेत्र में ए.सी. हाउसेज पर बिजली विभाग को बिजली चोरी का शक है। बिजली चोरी करते हुए पकड़े जाने पर बिजली विभाग लाखों रूपए का जुर्माना भी लगा रहा है। बहादुरगढ़ बिजली डिविजन में अब तक 201 बिजली चोरी के मामले पकड़े जा चुके हैं जिन पर करीबन 74 लाख रूपए का जुर्माना भी लगाया जा चुका है। दरअसल लॉकडाउन में जहां व्यवसायिक गतिविधियां बंद होने के कारण बिजली विभाग को करोड़ों का नुकसान उठाना पड़ा है।

लॉकडाउन की अवधि में ग्रामीण क्षेत्र में बिजली खपत में बढ़ोतरी भी दर्ज की गई। लेकिन ग्रामीण क्षेत्र में बिजली बिलों की रिकवरी खपत के मामले में हमेशा कम ही रही है। बिजली विभाग ने लाईन लॉस कम करने के लिए ही बिजली चोरों को पकड़ने के लिए विशेष अभियान छेड़ दिया है। बहादुरगढ़ डिविजन में चार एसडीओ और कई जूनियर इंजिनियरों की टीमें लगातार छापेमारी कर बिजली चोरी पकड़ने में जुटी हुई है। सुबह हो या शाम किसी भी वक्त बिजली चोरों के घर पर रेड पड़ सकती है। बिजली विभाग के एक्सईएन  ने बताया कि अब तक शहरी क्षेत्र में 123 और ग्रामीण क्षेत्र में 78 बिजली चोरी के केस दर्ज किए जा चुके हैं।

Advertisement

शहरी क्षेत्र में करीब 58 लाख और ग्रामीण क्षेत्र में करीबन 17 लाख रूप्ए जुर्माना लगाया गया है। जिनमें से शहरी क्षेत्र से 11 और ग्रामीण क्षेत्र से करीबन 5 लाख की रिकवरी भी की जा चुकी है। बिजली चोरी के मामले में ग्रामीण क्षेत्र के एसी हाउसेज को प्राईम सस्पैक्ट के तौर पर बिजली विभाग मानकर काम कर रहा है।

क्योंकि ग्रामीण क्षेत्र में बिजली खपत काफी बढ़ी है। पिछले साल एक जुलाई से 21 जुलाई तक की बात करें तो ग्रामीण क्षेत्र में एक करोउ़ 36 लाख 35 हजार यूनिट बिजली खपत हुई थी जो इस साल यानि 1 जुलाई 2020 से 21 जुलाई 2020 तक की बात करें तो ये खपत चार लाख यूनिट बढ़कर एक करोड़ 40 लाख यूनिट से ज्यादा हो गई है। यही वजह की बिजली विभाग इस बार गांवों में बिजली चोरी को लेकर लगातार छापेमारी कर रहा है।

Advertisement