कुरुक्षेत्र जिले में सोशल डिस्टैंस के साथ अब इस समय तक खुलेंगी सभी दुकाने : धीरेन्द्र

इंडिया ब्रेकिंग/करनाल रिपोर्टर (ब्यूरो) कुरुक्षेत्र 1 जून, जिलाधीश एवं उपायुक्त धीरेन्द्र खडगटा ने कहा कि राज्य सरकार के आदेशानुसार कुरुक्षेत्र जिले में सोशल डिस्टैंस के साथ सभी प्रकार की दुकानों को खोलने के समय में एक घंटा और रियायत दी गई है। अब दुकानदारा सुबह 9 बजे से रात्रि 7 बजे तक अपनी दुकाने खोल सकेंगे। अहम पहलू यह है कि फुड रेस्टोरेंट को केवल रसोई चलाने की ही अनुमति दी गई है और इस रसोई से खाने के समान की होम डिलीवरी रात्रि 8 बजे तक कर सकेंगे।

जिलाधीश एवं उपायुक्त धीरेन्द्र खडगटा ने सोमवार को देर सायं जारी आदेशों में कहा कि मानव संसाधन मंत्रालय के आदेशानुसार राज्य सरकार ने लॉकडाउन 5.0 में दुकानदार और व्यापारियों को कुछ ओर रियायते देने का निर्णय लिया है। इसलिए राज्य सरकार के आदेशानुसार कुरुक्षेत्र जिले में भी दुकानों को खोलने और बंद करने के समय भी परिवर्तन किया गया है। नए आदेशों के अनुसार दुकानदारों को दुकान खोलने के लिए एक घंटा ओर छूट दी गई है। अब सभी प्रकार की दुकानों (जरुरी वस्तुओं की दुकानों को छोडक़र) सुबह 9 बजे से लेकर रात्रि 7 बजे तक खोल सकेंगे। सभी को सरकार के आदेशानुसार रात्रि 9 बजे से लेकर सुबह 5 बजे तक नाईट कर्फ्यू के आदेशों की भी पालना करनी होगी।

उन्होंने कहा कि सरकार के आदेशानुसार फूड रेस्टोरेंट और खाना सप्लाई वाली एजेंसियां जिनमें जोमेटो, स्वीगी को खाने की वस्तुओं की होम डिलीवरी के लिए रसोई चलाने की ही अनुमति दी है। इस रसोई को अधिकतम रात्रि 8 बजे तक ही चलाया जा सकता है और रात्रि 8 बजकर 30 मिनट तक होम डिलीवरी की प्रक्रिया को पूरा करना सुनिश्चित करना होगा। सभी को इस विषय पर विशेष ध्यान देना होगा कि रात्रि 9 बजे के बाद कोई भी होम डिलीवरी करने वाला व्यक्ति सडक़ों पर नहीं होगा।

इतना ही नहीं खाना बनाने और सर्व करने वाली एजेंसियों को स्वास्थ्य विभाग की एडवाईजरी की पालना करनी होगी। सभी को मास्क, गलब्स, कैप, पहननी होगी। उन्होंने कहा कि संस्थान के संचालकों को यह भी सुनिश्चित करना होगा की रसोई में काम करना वाला स्टाफ और होम डिलीवरी करने वाला व्यक्ति बिमार नहीं होना चाहिए तथा उसमें खांसी-जुखाम के भी किसी तरह के लक्षण नहीं होने चाहिए।

जिलाधीश ने कहा कि होम डिलीवरी करने वाले व्यक्ति को हाथों में गलब्स और मास्क को पहना होगा और वह उपभोक्ता से किसी प्रकार का हस्ताक्षर और थम्ब इम्प्रेशन समान डिलीवरी करते समय नहीं लेगा। सभी को प्रयास करना चाहिए कि खाने का भुगतान आनलाईन प्रणाली से लिया जाए ताकि सोशल डिस्टैंस बना रहे। इन आदेशों की पालना करवाने के लिए पुलिस अधीक्षक को आवश्यक निर्देश जारी कर दिए गए है। सभी एसएचओ इन आदेशों की पालना करवाना सुनिश्चित करेंगे। जो भी व्यक्ति आदेशों की अवहेलना करते हुए पाया गया तो उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी।

Advertisement