लॉकडाउन में लेन-देन के लिए क्रेडिट कार्ड नहीं, बल्कि इसका हुआ ज्यादा इस्तेमाल

भारत में क्रेडिट कार्ड ने हमेशा ही लोगों को आकर्षित किया है। लेकिन लॉकडाउन के दौरान इस मामले में बदलाव देखा गया। संकट के समय में लोगों ने क्रेडिट कार्ड की जगह पर डेबिट कार्ड का इस्तेमाल ज्यादा किया। चालू वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में ज्यादातर लोगों ने ग्रोसरी व अन्य उत्पादों की खरीदारी के लिए डिजिटल पेमेंट किया, लेकिन इसके लिए ज्यादातर डेबिट कार्ड का इस्तेमाल किया गया।

डेबिट-क्रेडिट कार्ड से कितनी खरीदारी की गई?

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के आंकड़ों के अनुसार, साल 2020 में जून के महीने में लोगों ने क्रेडिट कार्ड से 42,818 करोड़ रुपये की खरीदारी की, जबकि जनवरी में क्रेडिट कार्ड के माध्यम से 67,000 करोड़ रुपये की खरीदारी की गई थी। यानी लोगों ने क्रेडिट कार्ड से 36 फीसदी कम खरीदारी की। डेबिट कार्ड की बात करें, तो इसके माध्यम से 47,252 करोड़ रुपये की खरीदारी की गई, जो कोरोना काल के पहले के समय से 24 फीसदी कम है। तब डेबिट कार्ड से लोगों ने 62.153 करोड़ की शॉपिंग की थी।

डेबिट-क्रेडिट कार्ड से कितने ट्रांजेक्शन हुए?

वहीं अगर ट्रांजेक्शन के लिहाज से देखें, तो जून में 12.5 करोड़ बार क्रेडिट कार्ड से लेनदेन हुआ। कोरोना वायरस और लॉकडाउन के पहले जनवरी के महीने में यह आंकड़ा 20.3 करोड़ था। डेबिट कार्ड से जनवरी में 45.8 करोड़ लेनदेन हुए, लेकिन डेबिट कार्ड का इस्तेमाल कम हुआ और इसके जरिए 30.2 करोड़ लेनदेन हुए।

डेबिट-क्रेडिट कार्ड से कितना औसतन खर्च हुआ?

जनवरी में एक क्रेडिट कार्ड से औसतन 12,000 रुपये खर्च किए गए थे। जून में यह आंकड़ा गिरकर 7,474 रुपये पर आ गया। वहीं डेबिट कार्ड औसतन 761 रुपये खर्च किए गए थे, जबकि जून में एक डेबिट कार्ड से 558 रुपये खर्च किए गए।

यूपीआई का भी हुआ ज्यादा इस्तेमाल

मालूम हो कि भारत में प्रत्येक 15 डेबिट कार्ड पर एक क्रेडिट कार्ड है। डेबिट कार्ड के अतिरिक्त इस दौरान यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई) का भी ज्यादा इस्तेमाल किया गया। अगस्त में यूपीआई से 150 करोड़ से ज्यादा लेनदेन हुए।

क्या है यूपीआई?

यूपीआई यानी यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस एक अंतर बैंक फंड ट्रांसफर की सुविधा है, जिसके जरिए स्मार्टफोन पर फोन नंबर और वर्चुअल आईडी की मदद से पेमेंट की जा सकती है। यह इंटरनेट बैंक फंड ट्रांसफर के मकैनिज्म पर आधारित है।

ऐसे काम करता है UPI 

एनपीसीआई के द्वारा इस सिस्टम को कंट्रोल किया जाता है। यूजर्स यूपीआई से चंद मिनटों में ही घर बैठे ही पेमेंट के साथ मनी ट्रांसफर करते हैं।

Advertisement