Train में नहीं मिली कंफर्म सीट तो यात्रियों को मिलेगा Flight से जाने का मौका, जानें कैसे?

नई दिल्ली। Railofy App: ट्रेन में टिकट बुकिंग ( Confirm Ticket Booking ) के बाद उसके कंफर्म होने का इंतजार करना पड़ता है। हर किसी को इस बात की चिंता रहती है कि कंफर्म सीट ( IRCTC Ticket Booking ) मिलेगी या नहीं? कुल मिलाकर रेल टिकटों के लिए मारामारी रहती है। लेकिन, अब इस परेशानी का हल मुंबई स्थित एक स्टार्टअप कंपनी ने निकाला है। कंपनी ने इसके लिए Railofy नाम की एक ऐप पेश की है।

कंपनी का दावा है कि इस ऐप से यात्री तत्काल टिकट ( Tatkal Ticket ) बुक कर सकते हैं। अगर आपकी टिकट वेटिंग या फिर RAC ( Reservation Against Cancellation ) भी रहती है तो कंपनी आपके लिए एयर टिकट ( Air Ticket ) की व्यवस्था करेगी। हालांकि, इसके लिए यात्रियों को पहले 50 रुपये से 500 रुपये में रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

यात्रियों को मिलेगा फ्लाइट का टिकट

मुंबई स्थित स्टार्टअप रेलोफाये (Railofy) ने भारत की पहली ‘वेस्टलिस्ट और आरएसी प्रोटेक्शन’ सेवा शुरू की है। कंपनी ग्राहकों का रेल टिकट कन्फर्म नहीं होने पर फ्लाइट का टिकट देकर यात्रा पूरी करवाने का दावा करती है। रेलोफाये के संस्थापक टीम के रोहन ने बताया, “लगभग 30 करोड़ भारतीय हर साल रेलवे की वेटलिस्ट से जूझते हैं। जनवरी 2020 से हमने इसे शुरू किया और पहले कुछ महीने में ही करीब 100 यात्रियों ने हमारे माध्यम से अपना सफर पूरा किया। हम चाहते हैं कि यात्री को अपने सफर में कोई परेशानी न हो।

कैसे मिलेगी कंफर्म सीट

कंपनी के मुताबिक, यात्री को रेलोफाये की वेबसाइट या एप पर जाकर पहले रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इसके लिए आपको अपने टिकट का पीएनआर नंबर देना होगा। वहीं, यात्री को एक शुल्क जमा करना होगा, जो हर यात्रा के हिसाब से तय किया गया है। इसके बाद रेलोफाये यात्री के वेटलिस्ट टिकट को ट्रैक करेगा। यदि यात्री का टिकट कंफर्म नहीं होता, तो रेलोफाये यात्री को फ्लाइट का टिकट देकर उसकी यात्रा पूरी करवाता है। वहीं यात्री को ट्रेन के ही दाम पर विमान से यात्रा करने का मौका मिलता है।

गांव में बसों की सुविधा

रोहन ने कहा कि जिन यात्रियों का गांव एयरपोर्ट से दूर है, रेलोफाये उन्हें उनके घर से एयरपोर्ट तक पहुंचाने की सुविधा भी देता है। उन्होंने कहा कि रेलोफाये लंबे सफर को आसान बनाने के साथ ही छोटे मार्गो के लिए बस सुविधा भी देना शुरू कर रहा है, ताकि यात्रियों को कम से कम परेशानी हो।

Advertisement