चीन पर मोदी का एक्शन: संसद में कर सकती है ये ऐलान, अब कंपेगा दुश्मन देश

नई दिल्ली: देश की मोदी सरकार कल से शुरू हो रहे मानसून सत्र के चलते सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, भारत-चीन गतिविधियों पर संसद में बयान दे सकती है। जीं हां संसद में कल से मानसून सत्र शुरू हो रहा है, जिससे पहले ये जानकारी सामने आई है। ऐसे में आने वाले सत्र के एजेंडे पर आज संसद की समिति की बैठक में ये मामला उठाया गया। ताजा मुद्दा यानी वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर चीन के साथ गतिरोध को लेकर राहुल गांधी सहित तमाम कांग्रेस नेताओं द्वारा लगातार मोदी सरकार पर हमले किये जा रहे हैं।

दक्षिणी तट पर आक्रामकता

पूर्वी लद्दाख के पैंगॉन्ग झील और अन्य तमाम क्षेत्रों में चीनी सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के सैनिकों की आक्रामकता बढ़ी है। बीती 15 जून को, लद्दाख में तैनात 20 भारतीय सैनिकों ने जान गंवाई थी, भारत-चीन सीमा पर ऐसी घटना 4 दशकों में पहली बार हुई थी।

इससे पहले दो हफ्तों में, चीनी सैनिकों ने लद्दाख के पैंगॉन्ग झील के दक्षिणी तट पर आक्रामकता दिखाई दी है। लेकिन भारत लाइन ऑफ एक्चूअल कंट्रोल (LAC) पर “यथास्थिति को बदलने के लिए इन कोशिशों को रोकने में कामयाब रहा। ऐसे में विदेश मंत्रालय ने कहा कि सैनिकों के बीच कोई झड़प नहीं हुई थी।

ब्रिगेड- कमांडर स्तर की बातचीत अनिर्णायक

सीमा पर चीन के बढ़ते तनाव के चलते 31 अगस्त को भारतीय सैनिक चीनी सैनिकों से घिर गए थे। असल में बात ये हुई थी कि चीनी सैनिक उस पोजीशन पर कब्जा करना चाहते थे, जहां पहले से भारतीय सेना मजबूत स्थिति में है। ऐसे में हालातों को देखते हुए, केंद्र सरकार के लिए इस मुद्दे पर चर्चा से बचना मुश्किल हो गया है। हालांकि सीमा पर लगातार तनातनी बढ़ती ही जा रही है।

बीते कई महीनों से लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चूअल कंट्रोल (LAC) पर भारत-चीन के बीच तनाव बना हुआ है। लंबे समय से सीमा पर चल रहे भूमि विवाद को निपटाने के लिए शनिवार को चुशुल में ब्रिगेड- कमांडर स्तर की बातचीत अनिर्णायक रही।

Advertisement