स्ट्रीट वैंडर्स को आत्मनिर्भर बनाने के लिए 10 हजार रुपये तक का लोन मिलना हुआ आरंभ

इंडिया ब्रेकिंग/करनाल रिपोर्टर (ब्यूरो) करनाल 5 सितम्बर, उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने बताया कि प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के तहत स्ट्रीट वैंडर्स को आत्मनिर्भर बनाने के लिए जिले में 10 हजार रुपये तक का लोन मिलना आरंभ हो गया है। इस योजना की शुरूआत देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा वैश्विक महामारी कोरोना के समय में छोटा कारोबार करने वालों को मदद देने के उद्देश्य से की गई है। इस योजना का लाभ लेने के लिए बैंको को लगभग 904 आवेदन प्राप्त हुए हैं जिनमें से 274 आवेदन स्वीकृत हो चुके हैं तथा शेष पर तीव्रता से कार्यवाही जारी है।

उपायुक्त ने यह भी बताया कि इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक को नगरनिगम द्वारा जारी स्ट्रीट वैंडर से संबंधित सर्टिफिकेट और पहचान पत्र बनवाना अनिवार्य रहेगा, जिसके लिए आवेदन फार्म के साथ-साथ आधार कार्ड, वोटर कार्ड तथा बैंक पासबुक आदि दस्तावेज संलग्र करने होंगे। प्रमाण पत्र बनवाने के लिए स्ट्रीट वैंडर्स नेहरू पैलेस स्थित नगर सुधार मंडल बिल्डिंग के नगरनिगम कार्यालय तथा अपने नजदीकी अटल सेवा केन्द्र ऑनलाईन आवेदन कर सकते हैं। नगरनिगम द्वारा जारी स्ट्रीट वैंडर्स प्रमाण पत्र प्राप्त करने के बाद आवेदक को अपने नजदीकी अटल सेवा केन्द्र में जाकर उक्त योजना के लिए ऑनलाईन आवेदन करना होगा, आवेदन के पश्चात बैंक द्वारा आवेदक को इस योजना का लाभ दिया जाएगा।

योजना के बारे में बताते हुए उपायुक्त ने कहा कि इस योजना के तहत आवेदक को 10 हजार रुपये की वित्तीय सहायता एक वर्ष के लिए दी जा रही है, जिसे 12 आसान किस्तों में 7 प्रतिशत ब्याज सब्सिडी का लाभ लेने के बाद उसे वापिस करना होगा तथा डिजिटल ट्रांजैक्शन को बढ़ावा देने वाले स्ट्रीट वैंडर्स को 1200 रुपये वार्षिक अतिरिक्त कैश बैक भी दिया जाएगा।

नगरनिगम के नगरीय परियोजना अधिकारी प्रवीण चुघ ने इस संबंध में बताया कि इस योजना के तहत नगर-निगम  में 4559 स्ट्रीट वैंडर पंजीकृत हैं जिनमें से 1200 स्ट्रीट वैंडर्स को प्रमाण पत्र जारी कर दिए गए हैं तथा इसके अतिरिक्त 2600 नए स्ट्रीट वैंडर्स ने पहचान व प्रमाण पत्र बनवाने के लिए आवेदन किया है जिनमें से लगभग 200 स्ट्रीट वैंडर्स को वैरिफिकेशन के बाद एलओआर (लैटर ऑफ रिकोमैंडेशन) दे दिया गया है तथा शेष की वैरिफकेशन का कार्य जारी है। उन्होंने जिले के सभी स्ट्रीट वैंडर्स से अपील करते हुए कहा कि अपनी संबंधित नगरपालिकाओं, नगरनिगम तथा नजदीकी अटल सेवा केन्द्र में जाकर इस योजना का लाभ ले सकते हैं।

Advertisement