करनाल की जाट धर्मशाला में बनाया गया नया कोविड केयर सेंटर ,उपायुक्त निशांत यादव ने प्रबंधों का लिया जायजा

इंडिया ब्रेकिंग/करनाल रिपोर्टर (ब्यूरो) करनाल कोरोना दौर में हालात से निपटते रहने के लिए जिला प्रशासन की ओर से इंतजाम बदस्तूर जारी हैं, इसी के चलते शहर के चौधरी छोटू राम जाट भवन में नया कोविड केयर सैंटर बनाया गया है। उपायुक्त एवं जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के चेयरमैन निशांत कुमार यादव ने रविवार को जाट भवन जाकर वहां बनाए गए कोविड केयर सैंटर के इंतजामों का निरीक्षण कर ओके किया। उनके साथ एसडीएम करनाल आयुष सिन्हा, असंध के एसडीएम साहिल गुप्ता के अतिरिक्त केसीजीएमसी, सिविल अस्पताल, आयुष विभाग के डाक्टर तथा विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

दौरे में उपायुक्त ने पहले चौधरी छोटू राम जाट भवन के डे-केयर सैंटर में स्थित एक बड़े हाल में कोविड मरीजों को रखने के लिए लगाए गए बिस्तरों का निरीक्षण किया, इसमें पुरूष मरीजों को रखा जाएगा। करीब 100 पेशेंट के लिए उपयुक्त डिस्टैंसिंग के हिसाब से साफ-सुथरे कम्पलीट बिस्तरे तथा प्रत्येक बिस्तर पर नहाने का सामान, टूथब्रश जैसी वस्तुएं व सैनिटाईजर रखे गए हैं।

हाल में बिजली के पंखे भी उपलब्ध रहेंगे। इसके पश्चात उन्होंने जाट भवन के प्रथम ब्लॉक में पहले व दूसरे लेवल पर मौजूद 34 कमरों में महिलाओं के लिए बनाए गए कोविड केयर सैंटर का निरीक्षण किया, शौचालय और पेयजल प्रबंधों को भी देखा और सभी इंतजामों को देखकर संतुष्टि जाहिर की।

निरीक्षण के बाद उपायुक्त ने जाट भवन के कार्यालय कक्ष में बैठकर अधिकारियों के साथ कोविड केयर सैंटर से जुड़े सभी पहलुओं पर डिस्कस करते हुए उन्हें उनकी जिम्मेदारी सौंपी। उपायुक्त ने कहा कि एसडीएम करनाल आयुष सिन्हा कोविड केयर सैंटर के नोडल रहेंगे, दूसरे अधिकारी उनकी सहायता के लिए मौजूद रहेंगे ताकि मरीजों की देखभाल में कोई कमी न रहे। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षाणाधीन एचसीएस अधिकारी मयंक कुमार मॉनिटरिंग के लिए रहेंगे।

कोविड केयर सैंटर पर 24 घंटे एम्बुलैंस व डाक्टरों की मौजूदगी रहेगी जिसमें स्वास्थ्य विभाग व आयुष के डाक्टर शिफ्टों में ड्यूटी देंगे, फार्मासिस्ट भी ड्यूटी पर मौजूद रहेंगे। उन्होंने डाक्टरों से कहा कि कोविड केयर सैंटर में अधिकतर ए सिम्पटोमैटिक मरीज आएंगे, फिर भी यदि किसी मरीज की हालात क्रिटीकल या नाजुक हो जाए उसे बिना देरी किए तुरंत केसीजीएमसी कोविड अस्पताल में भिजवाना सुनिश्चित करना है।

उन्होंने अधिकारियों से कहा कि 21 सितम्बर सोमवार से ही मरीजों के रजिस्ट्रेशन का काम शुरू कर दें, एक तरह से ये ट्रायल हो जाएगा और किसी तरह की जरूरत महसूस हुई तो उसे भी समय पर पूरा कर लिया जाएगा। मरीजों के लिए तीन समय का स्वच्छ व पौष्टिक भोजन तथा दो बार की चाय सर्व की जाएगी। उनके स्वास्थ्य की देखभाल के लिए योगा भी करवाया जाएगा।

उन्होंने बताया कि कोविड केयर सैंटर पर एक डिस्पैंसरी की व्यवस्था रहेगी जिसमें बीपी, पल्स रेट, आईआर टैम्परेचर, एसपीओटू लेवल, ऑक्सीजन सिलेंडर युक्त बैड तथा एमरजेंसी रूम की व्यवस्था रहेगी। बिजली की सप्लाई निर्बाध रखी जाएगी।

उन्होंने अधिकारियों से कहा कि यहां आने वाले मरीजों की आवश्यकताओं के लिए वैसे तो सभी जरूरी चीजें रखवा दी गई हैं, फिर भी मरीज खासकर बच्चों के लिए जिस भी वस्तु की मांग करे उसे पूरा करने का प्रयास करें, ऐसा शुरू-शुरू में होता है। इस पर मौजूद अधिकारियों ने एक स्वर में कहा कि मरीजों को किसी प्रकार की दिक्कत नहीं आने देंगे, यह जनसेवा है, इसे पूरी लगन व मेहनत से निभाएंगे।

निरीक्षण के दौरा जाट भवन सभा के प्रधान और सदस्य भी मौजूद रहे। उन्होंने उपायुक्त को भरोसा दिलाया कि उनकी संस्था की ओर से जो भी सहयोग अपेक्षित होगा वह उसके लिए तत्पर रहेंगे।

Advertisement