फेरों से पहले दुल्हन की विश पूरी करने के लिए प्रेमी ने उठाया खतरनाक कदम

सीकर। नीमकाथाना दूल्हा दुल्हन फायरिंग मामले में पुलिस की पूछताछ में कई गहरे राज उजागर हो रहे है। मामले के मुख्य आरोपी इंद्राज गुर्जर ने फायरिंग दुल्हन के कहने पर की थी। फेरों से पहले तक इंद्राज और दुल्हन के बीच मोबाइल पर बात हुई थी। जिसमें दुल्हन ने कहा था कि उसकी शादी में असल की आतिशबाजी होनी चाहिए। इसके बाद इंद्राज ने दूल्हा दुल्हन पर फायरिंग करने के लिए नीमकाथाना में जीर की चौकी का इलाका चुना।

बता दे कि झुंझुनूं जिले के सुरपुरा गांव के संजू व बबलू की सीकर जिले के पाटन कस्बे के हेमराजपुरा गांव की मालियों की ढाणी निवासी कोमल व निशा से शादी हुई थी। विदा होने के बाद दुल्हा- दुल्हन एक गाड़ी में सवार होकर सुरपुरा लौट रहे थे, लेकिन घर से करीब 15 किलोमीटर दूर ही नीमकाथाना बाईपास पर इंद्राज गुर्जर और उसके दो दोस्त एक बाइक पर आए और जीर की चौकी के पास कार को रुकवाने लगे। जब चालक ने कार नहीं रोकी ने इंद्राज ने कार पर फायरिंग कर दी। दो फायर में दूल्हा संजू व दुल्हन कोमल घायल हो गए।

दरअसल पुलिस पूछताछ में इंद्राज गुर्जर ने बताया कि उसकी और दुल्हन की दोस्ती पिछले चार साल से थी। उसकी शादी होने के बाद से ही दोनों तनाव में थे, इंद्राज तो दूल्हा को रास्ते से हटाना चाहता था, लेकिन मौका ही नहीं मिला। जबकि दुल्हन की इंद्राज से बातचीत शादी वाले दिन भी हुई थी। इंद्राज के बयान के बाद पुलिस अब दोनों की कॉल डिटेल निकाल रही है।

योजना में इंद्राज के साथ उसके छह दोस्त और दो नाबालिग भी मदद कर रहे थे। पुलिस ने उन सबको भी गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार करने गए पाटन थाानधिकारी नरेंद्र पर फायरिंग करने वाले इंद्राज के भी पैरों में पुलिस की गोली लगी थी। जिसके कारण कई दिनों तक जयपुर के एसएमएस अस्पताल में भर्ती रहा था। अब पुलिस उससे पूछताछ कर रही है।

Advertisement