देश में फिर लगेगा Lockdown? कहीं कर्फ्यू तो कहीं स्कूल बंद

देश में कोविड-19 के एक दिन के भीतर 45,882 नए मामले सामने आने के साथ संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 90 लाख से अधिक हो गई। सुबह आठ बजे के अद्यतन आंकड़ों के मुताबिक देश में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल 90,04,365 मामले हो गए हैं। 24 घंटे के भीतर संक्रमण के कारण और 584 लोगों की मौत हुई जिसके कारण मृतक संख्या बढ़कर 1,32,162 हो गई।

राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली, अहमदाबाद और इंदौर जैसे शहरों में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बाद सरकार एक बार फिर सख्ती करती हुई दिखाई दे रही है। देश में बढ़ते कोरोना संकट बीच एक बार फिर से लॉकडाउन की चर्चा तेज हो गई है। कई खबरें ऐसी आ रही हैं कि देश में एक बार फिर लॉकडाउन लगाने की तैयारी चल रही है। सोशल मीडिया में ऐसी खबरें चल रही हैं कि देश में 1 दिसंबर से फिर से लॉकडाउन लगाया जा सकता है।

अहमदाबाद में 57 घंटे का पूर्ण कर्फ्यू लागू किया जाएगा


गुजरात के अहमदाबाद शहर में कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए शुक्रवार से निगम सीमा अंतर्गत 57 घंटे का सप्ताहांत कर्फ्यू लगाने का निर्णय लिया गया है। इस बीच, एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि मौजूदा हालात के मद्देनजर गुजरात सरकार ने राज्य में 23 नवंबर से माध्यमिक स्कूल और कॉलेज खोलने के अपने फैसले पर रोक लगा दी है। अधिकारियों ने कहा कि अहमदाबाद शहर में शुक्रवार (20 नवंबर) रात नौ बजे से कर्फ्यू शुरू होगा, जो सोमवार (23) सुबह छह बजे तक जारी रहेगा।

अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव कुमार गुप्ता ने कहा कि इस पूर्ण कफ्र्यू के दौरान केवल दूध और दवा की दुकानें ही खुली रहेंगी। गुप्ता को गुजरात सरकार ने विशेष कार्याधिकारी नियुक्त किया है और उनका काम अहमदाबाद नगर पालिका के कोरोना वायरस संक्रमण संबंधी कामकाज की निगरानी करना है। गुप्ता ने शाम को घोषणा की थी कि शुक्रवार (20 नवंबर) से अगले आदेश तक रोजाना रात नौ बजे से सुबह छह बजे तक रात्रि कर्फ्यू लागू रहेगा। हालांकि इसके कुछ घंटों बाद ही गुप्ता ने कहा कि शुक्रवार रात से सोमवार सुबह तक पूर्ण कर्फ्यू लागू होगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि रात्रि कफ्र्यू शहर में सोमवार रात नौ बजे से प्रभावी होगा।

मास्क नहीं लगाने पर जुर्माना राशि 500 रुपये से बढ़ाकर दो हजार रुपये की

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 के मामलों में बढ़ोतरी के मद्देनजर फेस मास्क नहीं लगाने के लिए जुर्माने की राशि 500 रुपये से बढ़ाकर 2,000 रुपये करने की घोषणा की। साथ ही उन्होंने अस्पतालों में कोविड-19 रोगियों के लिए बिस्तरों की संख्या बढ़ाने का भी ऐलान किया। केजरीवाल ने लोगों से शहर में तालाब और अन्य जलाशयों के किनारे छठ नहीं मनाने की भी अपील की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली सरकार 19 नवंबर से निजी अस्पतालों में 80 प्रतिशत आईसीयू बिस्तर कोविड-19 रोगियों के लिए आरक्षित करने के अपने फैसले को लागू कर रही है। उन्होंने एक आनलाइन ब्रीफिंग में कहा कि निजी अस्पतालों को गैर-आईसीयू कोविड​​-19 बिस्तर 50 प्रतिशत से बढ़ाकर 60 प्रतिशत करने का भी निर्देश दिया गया है। केजरीवाल ने कहा कि उन्होंने उपराज्यपाल अनिल बैजल से मुलाकात करके उन्हें सरकार द्वारा कोविड-19 की जांच के लिए उठाए गए विभिन्न कदमों से अवगत कराया। उन्होंने कहा कि मास्क नहीं पहनने के लिए जुर्माना 500 रुपये से बढ़ाकर 2,000 रुपये कर दिया गया है।

कोरोना के कारण स्कूल बंद

वहीं कोरोना कहर के बीच देश के कुछ इलाके ऐसे हैं जहां स्कूल खोलने की अनुमति मिलने के बावजूद भी संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच सरकार को फिर से स्कूल बंद करने का फैसला लेना पड़ा। दरअसल केंद्र सरकार ने अनलॉक के तहत मिजोरम, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और हरियाणा जैसे राज्यों में स्कूल खोलने की अनुमति दे दी थी।  राज्य सरकार ने जहां 9वीं से 12वीं तक के छात्रों के लिए खोलने की अनुमति दे दी थी। साथ ही यहां कॉलेज और यूनिवर्सिटीज भी शुरू कर दी गई थी, लेकिन स्कूल व कॉलेज शुरू होते ही यहां छात्रों में संक्रमण के बढ़ते मामलों ने सरकार को अपना फैसला वापस लेने के लिए मजबूर कर दिया है। अब इन सभी राज्यों में स्कूल कॉलेज फिर से बंद कर दिए गए हैं।

Advertisement